डब्ल्यूएचओ बंद करेगा हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवा का क्लीनिकल ट्रायल

बर्लिन . विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) (डब्ल्यूएचओ) ने कहा है कि वह अस्पताल में भर्ती कोरोना (Corona virus) संक्रमित मरीजों के उपचार में मलेरिया रोधी दवा इड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के प्रभावी होने या नहीं होने के संबंध में चल रहे परीक्षण को बंद करने जा रहा है. डब्ल्यूएचओ ने कहा कि उसने परीक्षण की निगरानी कर रही समिति की हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन और एचआईवी/एड्स के मरीजों के उपचार के लिए इस्तेमाल होने वाली दवा लोपिनाविर/रिटोनाविर के परीक्षण को रोक देने की सिफारिश स्वीकार कर ली है. संगठन ने कहा अंतरिम परिणाम दर्शाते हैं हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन और लोपिनाविर/रिटोनाविर के इस्तेमाल से अस्पताल में भर्ती कोविड-19 (Covid-19) के मरीजों की मृत्युदर में कोई कमी नहीं आई या मामूली कमी आई. अस्पताल में भर्ती जिन मरीजों को ये दवाएं दी गईं, उनकी मृत्युदर बढ़ने का भी कोई ठोस साक्ष्य नहीं है, इससे जुड़े परीक्षण के क्लीनिकल प्रयोगशाला परिणाम में इससे जुड़े सुरक्षा संबंधी कुछ संकेत मिले हैं. डब्ल्यूएचओ ने कहा कि यह फैसला उन मरीजों पर संभावित परीक्षण को प्रभावित नहीं करेगा, जो अस्पताल में भर्ती नहीं हैं या कोरोना (Corona virus) के संपर्क में आने की आशंका से पहले या उसके कुछ ही देर बाद दवा ले रहे हैं.

Please share this news
  भारत को धर्मनिरपेक्षता जैसी पश्चिमी अवधारणाओं की आवश्यकता नहीं, गोविंदाचार्य बोले, राम मंदिर भूमिपूजन 500 वर्षों के संघर्ष का परिणाम है