स्लिम फिगर की चाह है तो खाइए कमल ककड़ी, घटाती है मोटापा


नई दिल्ली (New Delhi) . कमल ककड़ी और लोटस रूट्स को सब्जी, पकौड़े और स्नेक्स के रूप में खाया जाता है. खासतौर पर सर्दी के मौसम में आनेवाली कमल ककड़ी के टेस्ट को लेकर लोगों की अलग-अलग राय हो सकती है. किसी को इसका टेस्ट बहुत पसंद होता है, तो किसी को बिल्कुल पसंद नहीं होता. लेकिन इसके शरीर पर पड़ने वाले चमत्कारिक प्रभावों को लेकर सभी एकमत हैं. इसे खाने से हमारे शरीर को बहुत फायदे होते हैं, इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता.

स्वास्त्य विशेषज्ञों के अनुसार कमल ककड़ी में एंटीऑक्सीडेंट्स भरपूर मात्रा में होते हैं. इसलिए इसे अपनी डेली डाइट में शामिल करने से हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है. जिससे मौसमी बीमारियों से लेकर डायबीटीज जैसी गंभीर बीमारियां भी दूर रहती हैं. कमल ककड़ी में फाइबर की मात्रा बहुत अधिक होती है. ये फाइबर हमारे पाचन तंत्र को साफ करने का काम करते हैं. क्योंकि इन्हें पचाना आसा होता है और इन रेशों की मदद से हमारी आंतों में जमा गंदगी भी निकल जाती है. हमारा पाचनतंत्र साफ होता है तो मेटाबॉलिज़म अपने आप बेहतर होने लगता है. इससे हम एनर्जेटिक फील करते हैं.

  लद्दाख सीमा तनाव पर पहली बार बोले रक्षामंत्री राजनाथ सिंह

स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि का कमल ककड़ी को अपनी डायट में शामिल करनेवाले लोग मोटापे का शिकार नहीं हो पाते. इसकी वजह है इनके अंदर छिपे फाइबर्स और मेटाबॉलिज़म को फास्ट करने की क्षमता. जिन लोगों का मेटाबॉलिज़म फास्ट होता है, उनमें फैट बढ़ने की संभावना न के बराबर होती है. क्योंकि पेट में जाने के बाद खाना जितनी जल्दी एनर्जी में रुपांतरित होता है, गैर जरूरी फैट इकट्ठा होने के चांस उतने ही कम होते जाते हैं. न्यूट्रिएंट्स से भरपूर कमल ककड़ी में विटमिन-बी और विटमिन-सी काफी मात्रा में होते हैं.

  भारतीय कंपनियों का औने-पौने दाम पर अधिग्रहण नहीं होने देंगे : निर्मला सीतारमण

इसमें पोटैशियम और आयरन भी काफी मात्रा में होते हैं. इससे हमारी स्किन और बोन्स को हेल्दी रखने में मदद मिलती है. पोटैशियम हमारी बॉडी में सोडियम की मात्रा को रेग्युलेट कर ब्लड प्रेशर को मैनेज करने का काम करता है. इससे ब्लड सर्कुलेश नॉर्मल रहता है और व्यक्ति को हाई बीपी की समस्या नहीं होती. कमल ककड़ी को खाने से हमें अपना स्ट्रेस लेवल मेंटेन रखने में मदद मिलती है. हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार, लोटस रूट्स में विटमिन-बी कॉम्प्लैक्स होता है जो पैरीडॉक्सीन कंपाउंड होता है और ब्रेन में न्यूरल रिसेप्टर्स से इंट्रैक्ट करता है. ये न्यूरल रिसेप्टर्स स्ट्रेस लेवल को कम करने का काम करते हैं. जिन लोगों को अक्सर सिर दर्द की समस्या रहती है या जिन्हें चिड़चिड़ाहट होती है, ऐसे लोगों को कमल ककड़ी जरूर खानी चाहिए. क्योंकि इसे लगातार लेने पर इन समस्याओं से निजात मिल जाती है.

Please share this news