भारतीय मूल के 3 ड्राइवर रातों-रात करोड़पति बने, तीनों की निकल आई 41 करोड़ की लॉटरी


दुबई . कोरोना (Corona virus) के कारण लॉकडाउन (Lockdown) के चलते खर्च पानी के लिए अपनी कारें बेचने की तैयारी कर रहे भारतीय मूल के तीन चालकों की करोडों की लाटरी खुल गई है. दुबई में भारतीय मूल के 3 ड्राइवर रातों-रात करोड़पति बन गए. ये तीनों मूलरूप से केरल के रहने वाले हैं. इन्होंने मेगा जैकपॉट लॉटरी के जरिए करीब 41 करोड़ रुपए की रकम जीती है. मीडिया (Media) रिपोर्ट के मुताबिक, लॉटरी जिजेश कोरोथन के नाम थी.

उसने दोस्त शाहजहां कुट्टिकट्टिल और शनोज बालकृष्णन के साथ मिलकर टिकट खरीदा था. इसलिए अब इनाम की रकम भी तीनों ने आपस में बांटने का फैसला लिया है. जिजेश ने बताया, ”हम तीनों ने मिलकर कुछ दिनों पहले ही लिमोसिन (लग्जरी गाड़ी) चलाने का काम शुरू किया था. लिमोसिन खरीदने के लिए लोन लिया था. लेकिन कोरोनावायरस के चलते टूरिज्म सेक्टर पूरी तरह चौपट हो गया, इसलिए केरल लौटने की तैयारी में थे. कार की ईएमआई भरने के लिए पैसे नहीं थे इसलिए इसे कार कर्ज चुकाने का मन बना लिया था. लेकिन ग्राहक से मीटिंग से पहले ही अचानक किस्मत बदल गई. अब हम आसानी से ईएमआई भर पाएंगे और फिर से काम शुरू कर पाएंगे.” जिजेश कहते हैं कि वह यह रकम अपनी बेटी की पढ़ाई पर खर्च करेंगे.

  एयरपोर्ट पर आने वाले व्यक्तियों को कोविड-19 के निर्देशों की पालना कराने के लिए 15 अधिकारी-कार्मिक नियुक्त

इसके अलावा शेष रकम अपने लिमोसिन सर्विस के बिजनेस को बढ़ाने में लगाएंगे. यह लॉटरी हमारे लिए जीवनदान की तरह है. जितेश बताते हैं कि यह काम कुछ दिन पहले ही तीनों ने मिलकर शुरू किया था. इसके पहले वह दूसरों की गाड़ियां चलाते थे. प्रबीन भी केरल के रहने वाले हैं. इसके अलावा केरल के जॉन वर्गीज ने लॉटरी में 21 करोड़ रुपए जीते थे. वर्गीज दुबई में प्राइवेट कंपनी में ड्राइवर का काम करते थे.बता दें कि 2019 में भारतीय बिजनेसमैन प्रबीन थॉमस कि किस्मत भी इस लॉटरी की वजह से बदल चुकी है. थॉमस ने दुबई में 6 करोड़ की लॉटरी जीती थी.

Please share this news