बाबा केदार की पंचमुखी चलविग्रह उत्सव डोली रवाना


रुद्रप्रयाग . बाबा केदारनाथ का शीतकालीन प्रवास रविवार (Sunday) को खत्म हो गया. ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ से बाबा केदार की पंचमुखी चलविग्रह उत्सव डोली वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ अक्षय तृतीय पर रवाना हुआ. बाबा की डोली रथ रूप में सुसज्जित वाहन से केदारनाथ धाम के लिए रवाना हुई. इस बार बाबा की डोली में, कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए देशभर में लागू लॉकडाउन (Lockdown) का पालन किया गया.

  टोल प्लाजा के पास खड़े ट्रक में मिला ड्राइवर का शव

इस साल केदारनाथ यात्रा के लिए डोली प्रस्थान के सभी समारोह का संचालन सूक्ष्म रूप से किया जा रहा है. इसमें पुजारी और वेदपाठी ही शामिल रहे. स्थानीय लोगों और अधिकारियों को बाबा की डोली के साथ चलने की अनुमति नहीं दी गई. स्थानीय लोगों ने अपने घरों की छतों, आंगन और तिबारियों में खड़े होकर अश्रुपूरित नेत्रों से आशीर्वाद मांगा. बाबा केदार की पंचमुखी चलविग्रह उत्सव डोली का प्रथम रात्रि प्रवास गौरामाई मंदिर गौरीकुण्ड में होगा. 27 अप्रैल को डोली का द्वितीय रात्रि प्रवास भीमबली में होगा, 28 अप्रैल को उत्सव डोली केदारनाथ धाम पहुंचेगी. 29 अप्रैल को प्रातः 6 बजकर 10 मिनट पर मेष लग्न में वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ बाबा केदारनाथ मंदिर के कपाट खोले जाएंगे.

Please share this news