Wednesday , 28 October 2020

रूस ने मिसाइल परीक्षण के आरोप को खारिज किया, कहा हमने नियमानुसार किया टेस्ट


मॉस्को . रूस ने अमेरिका और ब्रिटेन के उन दावों को खारिज कर दिया है, जिसमें दावा किया गया था कि उसने अंतरिक्ष में उपग्रह रोधी मिसाइल का परीक्षण किया है. रूस ने कहा कि यह आरोप साबित करता है कि अमेरिका खुद अंतरिक्ष में हथियार तैनात करने का इरादा रखता है.

दरअसल, अमेरिका और ब्रिटेन ने दावा किया था कि 15 जुलाई को उपग्रहरोधी हथियार के परीक्षण से संकेत मिला है कि रूस ऐसी प्रौद्योगिकी विकसित करने का प्रयास कर रहा है जो अंतरिक्ष में अमेरिका और उसके सहयोगी राष्ट्रों की संपत्ति के लिए खतरा पैदा कर सकता है. रूस के विदेश मंत्रालय ने आरोपों को खारिज करते हुए अपने एक बयान में कहा कि 15 जुलाई के परीक्षण से अंतरिक्ष में किसी तरह का खतरा पैदा नहीं हुआ है. यह परीक्षण अंतरराष्ट्रीय कानूनों का पालन करते हुए किया गया. बयान में यह भी कहा गया कि रूस की अंतरिक्ष गतिविधियों और शांतिपूर्ण अभियानों को लेकर दुष्प्रचार किया जा रहा है.

अमेरिका और ब्रिटेन के आरोपों पर प्रतिक्रिया करते हुए राष्ट्रपति कार्यालय के प्रवक्ता दिमित्री पेसकोव ने कहा रूस हमेशा से ही अंतरिक्ष के विसैन्यीकरण और किसी भी प्रकार के हथियार की तैनाती नहीं करने के पक्ष में रहा है. अमेरिका ने कहा था कि यूएस स्पेस कमांड के पास सबूत है कि मॉस्को ने 15 जुलाई को एक अंतरिक्ष-आधारित एंटी-सैटेलाइट हथियार का परीक्षण किया. इसके बाद अमेरिका के परमाणु निरस्त्रीकरण वार्ताकार मार्शल बिलिंग्सली ने ट्वीट करके कहा था कि यह पूरी तरह से अस्वीकार्य है.

रूस का यह टेस्ट अगले सप्ताह वियना में चर्चा का प्रमुख मुद्दा होगा, जहां वह न्यू स्टार्ट संधि पर बातचीत करेंगे. ब्रिटेन के अंतरिक्ष निदेशालय के प्रमुख एयर वाइस मार्शल हार्वे स्मिथ ने कहा किा ऐसे कदम अंतरिक्ष के शांतिपूर्ण उपयोग के लिए खतरा हैं और इनसे मलबे का जोखिम रहता है, जो उन उपग्रहों और अंतरिक्ष प्रणालियों को नुकसान पहुंचा सकते हैं, जिन पर दुनिया निर्भर करती है. लिहाजा, हम रूस से आह्वान करते हैं कि वह इस तरह के किसी भी परीक्षण से बचे.

Please share this news