अनाज के साथ अन्य खाद्य सामग्री भी दी जाए : किरण माहेश्वरी

उदयपुर (Udaipur). पूर्व उच्च शिक्षा मंत्री एवं विधायक किरण माहेश्वरी ने आज जिले के प्रभारी मंत्री के साथ बैठक में कहा कि कोरोना महाआपदा के कारण निर्धन वर् के साथ ही मध्यमवर्ग की आर्थिक स्थिति भी बुरी तरह से प्रभावित हुई है. राजसमंद जिले में 2.23 लाख निर्धन वर्ग के एवं 1.40 लाख निर्धनता रेखा से ऊपर वालों के राशन कार्ड बने हुए हैं. निर्धन वर्ग को अभी सार्वजनिक वितरण व्यवस्था में अनाज उपलब्ध करवाया जा रहा है. किंतु तेलशक्करदालनमकचाय पत्तीमसाले आदि के लिए उन्हें बाजार पर निर्भर करना पड़ता है. निर्धनता रेखा से ऊपर वाल परिवारों को सार्वजनिक वितरण व्यवस्था से कोई लाभ नहीं दिया जा रहा है.

किरण माहेश्वरी ने मांग की कि निर्धन परिवारों को प्रत्येक राशन कार्ड पर उपरोक्त खाद्य सामग्री का एक पैकेट दिया जाए. इस पर लागत मात्र 200 रुपए प्रति पैकेट आती है. इसी प्रकार निर्धनता रेखा से ऊपर वाले परिवारों को प्रत्येक माह उक्त खाद्य सामग्री के साथ ही अनाज का पैकेट दिया जाए. इस पर प्रतिमाह व्यय मात्र नो करोड़ रुपए आएगा. यह सहायता माह तक दी जाए तो कुल व्यय 27 करोड रुपए होगा.

किरण माहेश्वरी ने बताया कि अभी जिला खनिज प्रतिष्ठान( डीएमएफटी) में 650 करोड़ रुपए से अधिक की राशि उपलब्ध है. केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बी कोरोना राहत कार्यों में डीएमएफटी कोष के उपयोग के निर्देश दिए हैं. खाद्य सामग्री के पैकेट इस कोष से दिए जा सकते हैं.
उन्होंने इस संबंध में मुख्यमंत्री (Chief Minister) को भी पत्र लिखकर शीघ्र स्वीकृति देने का अनुरोध किया है.

घर घर वितरित की जाए खाद्य सामग्री
किरण माहेश्वरी ने प्रभारी मंत्री से सार्वजनिक वितरण व्यवस्था में उचित मूल्य की दुकानों से खाद्य सामग्री को घर घर वितरित करवाने की मांग की. विषाणु संक्रमण की आशंका को कम करने के लिए घर घर वितरण की व्यवस्था बहुत जरूरी है.

पशु चारा स्थल निर्धारित हों
किरण माहेश्वरी ने कहा कि बहुत से नागरिक पशुओं के लिए चारा देने की भावना रखते हैं. महा बंदी के कारण वे चारा नहीं दे पा रहे हैं. नगर में तीनचार स्थानों पर पशु चारा स्थल निर्धारित कर दिया जाए. जो भी व्यक्ति चारा देने की इच्छा रखता हैइन स्थानों पर जाकर चारा डलवा सकता है. इससे पशुओं के लिए चारे का संकट भी कम होगा.

गौशालाओं में चारा उपलब्ध करवाएं
किरण माहेश्वरी ने जिले की सभी गौशालाओं में राज्य सरकार (Government) द्वारा चारा उपलब्ध करवाने की मांग की. गौशालाओं में कम से कम माह के उपभोग के बराबर चारा सदैव उपलब्ध रहेइसकी व्यवस्था होनी चाहिए.

गांव में मुख पट्टिकाएं का वितरण किया जाए
किरण माहेश्वरी ने गांवों में मुख पट्टिकाओं की कमी की ओर ध्यान आकर्षित किया. उन्होंने गांव में निशुल्क मास्क वितरण प्राथमिकता से करवाने का आग्रह किया.

Please share this news
  उदयपुर में शनिवार को मिले 9 कोरोना मरीज