कोरोना पता लगाने के लिए इजरायल ने एजेंसियों को दिया फोन ट्रैक करने का अधिकार


येरुशलम . देश में कोविड-19 (Covid-19) की दूसरी लहर को नियंत्रित करने के लिए जारी जद्दोजहद के बीच इजराइल की संसद ने कोरोना (Corona virus) के मामलों का पता लगाने के लिए देश की आंतरिक सुरक्षा एजेंसी को ‘फोन ट्रैक’ (फोन की निगरानी) करने का सीमित अधिकार दे दिया है. इजराइल सरकार (Government) ने मार्च में कोविड-19 (Covid-19) के बढ़ते मामलों के मद्देनजर ‘शिन बेट’ को प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल की अनुमति दे दी थी.

  कोरोना का असर : ब्राह्मणों ने ऑनलाइन धारण की नई जनेऊ

यह निर्णय निजता के उल्लंघन संबंधी चिंताओं के कारण व्यापक स्तर पर आलोचना के बावजूद लिया गया था, लेकिन देश की शीर्ष अदालत ने कानून के तहत मंजूरी दिए जाने तक इस पर रोक लगा दी थी. इज़राइल की संसद ‘नेसेट’ ने मतदान कर ‘शिन बेट’ को कोरोना (Corona virus) से संक्रमित लोगों का पता लगाने के लिए ‘फोन ट्रैक’ करने की बुधवार (Wednesday) को मंजूरी दे दी.

  कैबिनेट मंत्री कमल रानी वरुण का निधन, कोविड-19 की थीं मरीज

इसके पक्ष में 51 और विरोध में 38 मत डले. फोन ट्रैक करके संक्रमित व्यक्ति से पिछले दो सप्ताह में मिले लोगों की पहचान की जा सकेगी. इस कानून के तहत संक्रमित व्यक्ति के सम्पर्क में आए लोगों को सम्पर्क में आने की तारीख से लेकर दो सप्ताह तक पृथक रहने को कहा जाएगा. इज़राइल स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार मई में प्रतिबंध में ढील देने के बाद से ही कोविड-19 (Covid-19) के मामले बढ़े हैं. रोजाना 600 से अधिक नए मामले सामने आ रहे हैं और कुल पुष्ट मामले 26,000 के पार पहुंच गए हैं. मार्च से अभी तक कम से कम 321 लोगों की जान चली गई है.

Please share this news