हॉस्पिटल नही ये है सैलून का नजारा, पीपीई किट पहन कर स्टाफ दे रहा सेवा, सरकार की गाइड लाइन का पूर्णतया हो रहा पालन

उदयपुर (Udaipur). कोरोना महामारी (Epidemic) में लॉक डाउन 4.0 में उदयपुर (Udaipur) शहर को मिली आंशिक अनुमति के बीच अब व्यवसाइयों के काम काज के तौर तरीकों में बदलाव आया है. शहर के कंटेन्मेंट क्षेत्रों को छोड़कर अन्य इलाकों में व्यवसाय शुरू होने से रौनक है, तो ऐसे में शहर के सैलून भी खुल चुके है. हालांकि यहां का नजारा अब बिल्कुल अलग ही नजर आ रहा है. शहर के सुखाड़िया सर्कल ओर अशोक नगर रोड स्थित बाउंस सैलून एन्ड मेकओवर स्टूडियो में सरकार (Government) द्वारा जारी गाइड लाइन का पालन करते हुए काम काम किया जा रहा है.

  [वट्स कुकिंग] इस हफ्ते के आखिर में, मार्बल केक के साथ दिखाएं अपनी जादूगरी

सैलून की निदेशक माया चौधरी ने बताया कि कोरोना से पूर्ण रूप से सावधानी बरतते हुए सैलून का स्टाफ अपनी सेवाएं दे रहा है. सैलून में आने वाले ग्राहक का सबसे पहले टेम्रेचर चेक किया जा रहा है. हाथों को सेनेटाइजर करने के बाद शूज कवर, ग्लब्स ओर हेयर केप पहनाई जा रही है. इस प्रक्रिया से गुजरने के बाद पीपीई किट पहने स्टाफ महिला या पुरुष ग्राहक को सेवाएं दे रहे है. इस दौरान हेयर कट या शेविंग व अन्य सेवाओ के लिए डिस्पोजल टॉवेल का उपयोग किया जा रहा है. यहां तक कि कटिंग ओर शेविंग के बालों को भी डिस्पोजल किया जा रहा है.

  दिल्ली दंगों में पुलिस की चार्जशीट

खास बात यह भी है कि हर नए ग्राहक के आने पर चेयर पर हर बार नया डिस्पोजल टॉवेल बिछाया जा रहा है, और हर एक घंटे में पूरे सैलून को हाइपोक्लोराइट से सेनेटाइज किया जा रहा है. महिला और पुरुष स्टाफ इन सभी सावधानियों का पूर्ण रूप से पालन करते हुए सोशल डिस्टेंसिंग को भी बखूभी निभा रहे है. कोरोना से किसी भी तरह का संक्रमण नही फैले इसका खास ख्याल रखा जा रहा है. साथ ही बिना मास्क पहने किसी भी ग्राहक का सैलून में प्रवेश निषेध है. हर एक ग्राहक के नाम, पते की पूरी जानकारी को भी नोट किया जा रहा है.

Please share this news