गृह मंत्रालय के आदेश, केरल सोना तस्करी केस की जांच करेगी NIA


नई दिल्ली (New Delhi) . त्रिरूवनंतपुरम एयरपोर्ट के जरिए हुए सोने की तस्करी वाले मामले की जांच अब राष्ट्रीय जांच एजेंसी करेगी, गृह-मंत्रालय ने इसके लिए एजेंसी को निर्देश दे दिए हैं. केरल (Kerala) की राजधानी में यूएई के पता वाले डिप्लोमैटिक कार्गो से 30 किलो सोना (Gold) चुराने का मामला है. जमीनी स्तर इस तस्करी को राष्ट्रीय सुरक्षा से जोड़ा जा रहा है. सूत्रों के अनुसार इस मामले में एनआईए गैर-कानूनी गतिविधियां (रोकथाम) कानून 2004 की धारा 15, 16, 17 और 18 के तहत जांच करेगा. ये कानून आतंकवादी गतिविधि और टेरर फंडिंग को लेकर लगाया जाता है.

एनआईए का कहना है कि एजेंसी इस मामले में शुरू से जांच करेगी, जिसमें अंतरराष्ट्रीय संबंधों से जुड़े संगठित रैकेट की जांच होगी और इस तस्करी से देश की राष्ट्रीय सुरक्षा और अर्थव्यवस्था पर पड़ने वाले असर की भी पड़ताल होगी. इस मामले में एक पूर्व राजनीतिज्ञ यूएई वाणिज्य दूतावास जनरल स्वप्ना सुरेश का नाम जुड़ने से केरल (Kerala) में हड़कंप मच गया है. इसके बाद स्वप्ना सुरेश के केरल (Kerala) के मुख्यमंत्री (Chief Minister) के निजी सचिव के साथ कथित राजनैतिक संबध की खबरें सामने आई हैं. फिलहाल स्वप्ना सुरेश फरार हैं और उन्होंने केरल (Kerala) के हाईकोर्ट में अग्रिम जमानत का याचिका खारिज की है.

याचिका में दावा है कि कार्गो के संबंध में स्वप्ना ने एयरपोर्ट अधिकारी से संपर्क किया था. यूएई वाणिज्यदूतावास जनरल ऑफिस के उच्च कूटनीतिज्ञ राशिद खामिस अल शामली के कहने पर कथित तौर पर संपर्क साधा था. तस्करी किए सोने की कीमत 15 करोड़ रुपये है. इस मामले में आश्चर्य की बात यह है कि तस्करी किया हुआ सोना (Gold) कार्गो में छिपाया हुआ था. इस कार्गो में बिस्किट, नूडल्स, बाथरूम का सामान रखा जाता था लेकिन कस्टम को तस्करी को लेकर पहले से सूचना मिल चुकी थी.

Please share this news