कांग्रेस नेता कुलदीप बिश्नोई की मुश्किलें बढ़ीं


नई दिल्ली (New Delhi) . स्विट्जरलैंड सरकार (Government) ने भारतीय अधिकारियों से प्रशासनिक सहायता अनुरोध मिलने के बाद हरियाणा (Haryana) (Haryana) के कांग्रेस नेता कुलदीप बिश्नोई और उनकी पत्नी रेणुका के स्विस बैंक (Bank) खातों और अन्य वित्तीय संपत्तियों के बारे में भारत के साथ डिटेल शेयर करने के लिए पब्लिक नोटिस जारी किए हैं. 7 जुलाई को बर्न में स्विट्जरलैंड के नवीनतम संघीय राजपत्र में प्रकाशित दो नोटिसों के अनुसार, बिश्नोई को स्विस कानूनों के अनुसार सूचना साझा करने के खिलाफ अपील करने के अपने अधिकार का प्रयोग करने के लिए 10 दिनों के भीतर जवाब देने के लिए कहा गया है. ग्रांडे मेसन लिमिटेड और होलीपोर्ट लिमिटेड के लिए भी इसी तरह के नोटिस जारी किए गए हैं. दो ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड्स स्थित कंपनियों के बिश्नोई परिवार के साथ संबंध होने का संदेह था.

  केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य सचिव ने किया इशारा, भारत में कोरोना की वैक्‍सीन उपलब्‍ध होने पर प्राथमिकता हेल्‍थ वर्कर्स को

दोनों कंपनियों को एक ही दिन 19 जुलाई, 1996 को शामिल किया गया था और पनामा पेपर्स में भी इसका पता लगा था, जो टैक्स हैवन्स के तौर पर संस्थाओं की एक ब्लैक लिस्ट थीं. आधिकारिक रिकॉर्ड के अनुसार, दोनों कंपनियां अगस्त 2014 से निष्क्रिय रहने के बाद अप्रैल 2016 में कंपनियों की रजिस्ट्री से हट गई थीं स्विस सरकार (Government) की ओर से जारी किए गए इन नोटिसों में, कुलदीप बिश्नोई, उनकी पत्नी और दोनों फर्मों को स्विट्जरलैंड के संघीय कर प्रशासन द्वारा प्रस्तावित प्रशासनिक सहायता के खिलाफ सुनवाई के दौरान अपना पक्ष रखने के लिए 10 दिनों के भीतर एक प्रतिनिधि नियुक्त करने के लिए कहा गया है.

Please share this news