Wednesday , 28 October 2020

पीसीसी में अजय माकन ने लिया फीडबैक

जयपुर (jaipur) . राजस्थान (Rajasthan) कांग्रेस में पिछले महीने चली करीब एक महीने तक गहलोत-पायलट गुट के बीच वर्चस्व का राजनैतिक झगड़ा सुलझ गया मगर दोनो नेताओं के बीच मनभेद लगता है अभी भी बरकरार है जिसका उदाहरण प्रदेश प्रभारी अजय माकन के अजमेर दौरे के दौरान गहलोत पायलट समर्थको के बीच हुई नारेबाजी में दिखा.

आज प्रदेश प्रभारी अजय माकन ने सबसे पहले अजमेर में जो कांग्रेसियों की आपस में भिड़त हुई उसको नकारा कहा कि..कार्यकर्ता उत्साह में था और फिर 50-50 कांग्रेसी कार्यकर्ताओं, नेताओं, पदाधिकारियों के गुट में फीडबैक सरकार (Government) और संगठन का फीडबैक लिया जिसमें प्रथम दृष्टया सभी का एक ही मोट्रो था कि कार्यकर्ताओं को पहले तवज्जो दी जायें, दूसरा चुनाव के दौरान जिन कार्यकर्ताओं को टिकट नहीं मिला उन कार्यकर्ताओं ने निर्दलीय चुनाव लड़ा और वो जीतकर आ गए और गहलोत सरकार (Government) को समर्थन भी दे दिया पर उन क्षेत्रों से जो पार्टी सिम्बल पर लडे कांग्रेसी कार्यकर्ता थे उनकी शिकायत थी कि बहुमत हासिल करने की आपाधापी में जो विधायक निर्दलीय जीते और गहलोत सरकार (Government) को समर्थन दिया उनकी सिफारिश पर क्षेत्र में काम पहले करवाये जा रहे है जबकि कांग्रेस सिम्बल पर लडने वाले कार्यकर्ता को नजरअंदाज किया जा रहा है.

तीसरा मुद्दा कोरोना काल के बाद प्रदेश में बिजली बिलो को माफ करने वाला भी उठा कुछ कार्यकर्ताओं ने तो चुनाव वक्त में जारी किए कांग्रेस घोषणा पत्र के भी बिन्दुओं पर भी अजय माकन को 100 प्रतिशत पूरा करने का मशवरा दिया. सभी के शिकवे शिकायत सुनने के बाद अजय माकन ने मीडिया (Media) को फौरी तौर पर यही कहा कि पार्टी में सब कुछ ऑल इज वेल है कोई गुट नहीं है केवल एक गुट है वो कांग्रेस इसमें सभी सरकार (Government) और संगठन में बैठे ए से लेकर के जेड तक के कार्यकर्ता पदाधिकारी शामिल है.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *