जयसमंद पाल पर अश्‍लीलता फैलाने के आरोप पर मामला दर्ज

उदयपुर। शहर से 50 किलोमीटर दूर दो दिन पूर्व मीठे पानी की पहली मानव निर्मित झील जयसमंद की पाल पर स्थित एक मंदिर में किसी विदेशी मेग्जीन के कवर पेज का फोटो शूट हुआ। जैसे -जैसे  वहां के रहवासियों और ग्रामीणों को इसकी सूचना मिली सभी इस शूटिंग को देखने के लिए मंदिर परिसर तक पहुंचे। उसके बाद शुरू हुआ अर्धनग्‍न कपड़ों में शूटिंग का सिलसिला।

उल्‍लेखनीय है कि जयसमंद झील की पाल पर शनिवार को अर्धनग्न कपड़ों में एक निजी विज्ञापन कंपनी के शूटिंग करने पर सोमवार को सलूंबर निवासी चन्द्र शेखर पुत्र भगवान लाल, वकील प्रकाश जोशी और अदकालिया निवासी कपिल मेहता ने अज्ञात विदेशी नायिका के खिलाफ मामला दर्ज करवाया है। इस मामले में जयसमंद नवयुवक मंडल, शिव सेना, भाजयुमो, ब्रह्मण युवजन सभा अखिल युवा मंच सहित विभिन्न संगठनों ने पुलिस से आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। फोटो वायरल होने पर विभिन्न संगठनों के प्रतिधिनियों ने रोष जताया है। अर्धनग्न कपड़ों में देवस्थान विभाग के नरबदेश्वर महादेव मंदिर परिसर में भी शूटिंग हुई थी। फिल्मांकन में आसपास क्षेत्र की युवतियों को भी शामिल किया था। शूटिंग करीब ढाई घंटे तक चली, लेकिन जिम्मेदार अधिकारियों ने इस ओर ध्यान नहीं दिया।

सराड़ा थानाधिकारी शिव नाथ सिंह देवड़ा बताया कि अज्ञात कंपनी और विदेशी नायिका के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई है। पुलिस जांच में जुट गई है। इस संबंध में  वन विभाग के रेंजर महेन्‍द्रसिंह चूण्‍डावत का कहना है कि उदयपुर का विक्रम सिंह शूटिंग टीम लेकर आया था। उसके नाम 13 हजार रुपए की रसीद काटी गई है। सेंचुरी में एड के लिए मामूली शॉर्ट लेने की अनुमति मांग थी। लेकिन उन्होंने सेंचुरी की जगह पाल पर शूटिंग की है। इस बारे में जानकारी नहीं है। पाल की जिम्मेदारी जल संसाधन विभाग की है। पहले वह हमारे कार्यालय के पास फिल्मांकन करना चाहते थे। मैंने टीम को कार्यालय क्षेत्र में फिल्मांकन नहीं करने दिया।

 

loading...
Share