बीएस-4 वाहनों का 31 तक स्टॉक निकलना मुश्किल, पांच से 10 हजार रुपये का दे रहे ऑफर भी


भोपाल (Bhopal) . परिवहन आयुक्त वी मधु कुमार के निर्देश के बाद से शहर के कुल 41 वाहन डीलरों ने बीएस-4 वाहनों का 20 से 25 हजार का स्टॉक बेचना शुरू कर दिया है.इसके बावजूद वाहनों का स्टॉक समयसीमा के अंदर निकलना मुश्किल लग रहा है. पांच से 10 हजार रुपये का दोपहिया व चार पहिया वाहनों पर ऑफर भी दिए जा रहे हैं. इसके बाद भी लोग बीएस-4 वाहनों को खरीदना पसंद नहीं कर रहे हैं. लोगों का सोचना है कि जब बीएस-6 वाहन बाजार में आ चुके हैं तो बीएस-4 वाहन क्यों खरीदें? यहां बता दें कि परिवहन आयुक्त वी मधु कुमार ने 17 फरवरी को आदेश जारी कर आरटीओ संजय तिवारी को निर्देश दिए थे कि 31 मार्च के बाद किसी भी बीएस-4 वाहनों का पंजीयन (रजिस्ट्रेशन) नहीं किया जाए.

  पीरियड होना कोई शर्म की बात नहीं, लड़के और लड़कियों को किया जाए शिक्षित: स्मृति ईरानी

सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने देश में बीएस-4 वाहनों को इसलिए बंद किया है, क्योंकि ज्यादा वायु प्रदूषण होता हैं. बीएस-6 वाहनों में कंपनी द्वारा एक एडवांस कंट्रोल सिस्टम फीट होता है. इससे डीजल वाहनों में 70 प्रतिशत और पेट्रोल (Petrol) वाहनों में 25 प्रतिशत तक नाइट्रोजन ऑक्साइड के उत्सर्जन को कम करता है. साथ ही बीएस-6 से अपडेट होने पर डीजल पार्टिकुलेट फिल्टर (डीपीएफ) व सेलिक्टिव कैटेलिटिक रिडक्शन (एससीआर) को उपयोग में लाया गया है. बीएस-4 इंजन वाली गाड़ियों में यह नहीं मिलता है. हालांकि बीएस-4 पेट्रोल (Petrol) वाहनों को खरीदने में कोई दिक्कत नहीं है. बीएस-6 वाहनों के लिए मिलने वाला ईंधन बीएस-4 में भी इस्तेमाल कर सकते हैं. वहीं, बीएस-4 डीजल वाहन में बीएस-6 ईंधन का उपयोग नहीं कर सकते हैं.

  डेढ़ किलाे साेने के जेवर पहनने वाले वकील की हत्या, शव बावड़ी में फेंका

बीएस-4 वाहनों को खरीदने में कोई दिक्कत नहीं है इसलिए सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) के आदेश पर परिवहन आयुक्त ने 31 मार्च तक बीएस-4 वाहनों को बेचने के लिए वाहन डीलरों को समय दिया है. बीएस-4 वाहनों का स्टॉक निकालने के लिए वाहन डीलर और ऑफर निकालने सकते हैं. एक कंपनी के वाहन डीलर के सेल्स मैनेजर विशाल मालवीय ने बताया कि आगामी समय में और ऑफर निकाल सकते हैं. आरटीओ बीएस-4 वाहनों की बेचने की तारीख 31मार्च से आगे बढ़ाने का आग्रह किया था, उन्होंने साफ मना कर दिया है. यदि बीएस-4 गाड़ियां नहीं बिकती हैं तो कंपनियों से वापिस करने की चर्चा की जा सकती है.

  दिल्ली सरकार शराब की बिक्री-खरीद मौलिक अधिकार नहीं

फिलहाल स्टॉक निकालना मुश्किल हो रहा है. साल 2017 में भी बीएस-3 वाहनों का स्टॉक निकालने में परेशानी आई थी. इस संबंध में परिवहन आयुक्त वी मधु कुमार ने बताया कि राजधानी सहित प्रदेश के सभी आरटीओ को 31मार्च के बाद बीएस-4 वाहनों का रजिस्ट्रेशन नहीं करने के निर्देश दिए हैं. एक अप्रैल से कतई बीएस-4 वाहनों के रजिस्ट्रेशन नहीं होंगे.

Please share this news