पैंगोंग झील के फिंगर 4 एरिया से भी पीछे हट रही है चीनी सेना


नई दिल्ली (New Delhi) . एक समाचार चैनल पर जारी हाई रिजोल्यूशन सैटेलाइट तस्वीरों से साफ हो रहा है कि लद्दाख में पैंगोंग झील के फिंगर 4 एरिया से चीनी सेना पीछे की तरफ हट रही है. इससे पहले की तस्वीरों में चीनी सेना द्वारा किए जा रहे निर्माण नजर आ रहे थे. हालांकि अभी भी वहां सैकड़ों टेंट और शेड्स नजर आ रहे हैं जो कि इस बात का संकेत हैं कि भले ही वहां से भारत और चीन की सेनाएं पीछे हट रही हैं लेकिन अभी इसमें वक्त लगने वाला है. फिलहाल चीनी सेना द्वारा पूरी तरह से पीछे हटने और अप्रैल में दोनों सेनाओं के बीच तनाव शुरू होने से पहले वाली स्थ‍िति में लौटने के कोई संकेत नजर नहीं आ रहे.

  24 घंटों में कोरोना के 54,735 नए मामले सामने आए, संक्रमितों की संख्या हुई साढ़े 17 लाख के पार, और 853 लोगों ने तोड़ा दम

फिंगर 4 के 10 किलोमीटर पूर्व में स्थ‍ित एक घाट पर तैनात रहने वाले और झील में गश्त लगाने वाले चीन के फास्ट इंटरसेप्टर क्राफ्ट में भी बदलाव जैसा प्रतीत होता है. हालांकि ये अब भी उस इलाके के अंदर हैं जिसे भारत वास्तविक नियंत्रण रेखा पर अपना इलाका मानता है और जो ऐतिहासिक खुरनाक किले के पास है जो उस घाट से 11 किलोमीटर पूर्व में स्थ‍ित है. यहां दो खास तरह की 11 चीनी बोट नजर आ रही हैं, जो कि घाट पर खड़ी दिखाई दे रही हैं. घाट के पास पहाड़ी के ऊपर की तरफ चीन का एक बड़ा नक्शा खुदा हुआ है.

  24 घंटों में गुजरात में कोरोना के 1101 नए केस, 805 डिस्चार्ज, 22 की मौत

चीनी सेना लगातार इस इलाके में ऊंचाई वाले स्थानों (जिन्हें फिंगर्स कहा जाता है) पर हावी है और अपने टेंट भी बना रखे हैं. पूर्वी लद्दाख में बेहद ऊंचाई पर स्थ‍ित पैंगोंग झील के किनारे के इलाकों में कुछ 8 पहाड़ियां हैं, जिन्हें फिंगर्स 1 से 8 तक का नाम दिया गया है. फिंगर 1 से लेकर फिंगर 8 तक का इलाका भारत का है लेकिन चीन फिंगर 4 से लेकर फिंगर 8 तक को अपना इलाका मानता है. फिंगर 4 ही वह पहाड़ी हैं जहां अक्सर भारत और चीन की सेनाएं एक दूसरे के सामने आती हैं, इसी पहाड़ी के दोनों तरफ दोनों देशों की सेनाएं पेट्रोलिंग भी करती हैं. मई महीने में भारत और चीन की सेनाओं की इसी जगह पर झड़प हुई थी. भारत लगातार दावा करता रहा है कि वह 8वें फिंगर तक पेट्रोलिंग कर सकता है लेकिन चीन भारत के इस दावे को खारिज करता है.

Please share this news