Wednesday , 28 October 2020

पत्नी का आरोप, अस्पताल ने बिल बकाया होने पर शव नहीं दिया, पहुंची कोर्ट


हैदराबाद . एक महिला ने तेलंगाना उच्च न्यायालय का रुख कर आरोप लगाया कि उसके पति की कोरोना (Corona virus) के कारण मौत हो गई है और एक निजी अस्पताल ने बिल बकाया होने की वजह से शव नहीं दिया है. महिला दिहाड़ी मजदूर है और उसने रिट याचिका में अदालत से राहत का अनुरोध किया है. महिला का पति चौकीदार के तौर पर काम करता था. उन्हें 13 जुलाई को तेज बुखार तथा सांस लेने में परेशानी की शिकायत के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

महिला ने याचिका में कहा कि अस्पताल के डॉक्टरों (Doctors) ने उसे सूचित किया कि उसके पति की कोरोना (Corona virus) से कारण मौत हो गई. महिला के वकील ने बताया कि याचिका को सूचीबद्ध कर दिया गया है. याचिकाकर्ता ने उधार लेकर शुरू में 2.50 लाख रुपए जमा कर दिए थे और 22 जुलाई को अस्पताल ने उसे बताया कि इलाज का कुल बिल 8.91 लाख रुपए है. इस बीच कांटिनेंटल अस्पताल के सीईओ राहुल मेदाक्कारिन ने एक बयान में आरोपों का खंडन किया.

Please share this news