RBI के फैसलों का स्वागत, लेकिन EMI की तारीख पर उठाया सवाल: पी.चिदंबरम


नई दिल्ली (New Delhi) . पूर्व वित्त मंत्री पी.चिदंबरम ने कोरोना (Corona virus) के प्रकोप के चलते किए गए लॉकडाउन (Lockdown) के ऐलान के बीच आरबीआई (Reserve Bank of India) की ओर से रेपो रेट में कटौती और तीन महीने के लिए ईएमआई को टालने के फैसले का स्वागत किया है. लेकिन उन्होंने साथ में यह भी जोड़ा कि ईएमआई तिथियों को स्थगित करने की दिशा अस्पष्ट और आधी-अधूरी है. मांग यह है कि सभी ईएमआई देय तिथियों को ऑटोमैटिक स्थगित कर दिया जाना चाहिए.

  विदेशी जमातियों को जबरन क्यों किया गया क्वारनटीन हाई कोर्ट में दिल्ली पुलिस ने दिया जवाब

साथ में उन्होंने कहा, ‘मैंने सुझाव दिया था कि 30 जून से पहले पड़ने वाली सभी नियत तारीखों को 30 जून तक के लिए टाला जा सकता है. उधारकर्ताओं को संबंधित बैंक (Bank) पर निर्भर बना दिया गया है और निराश हो जाएगा’. पूर्व वित्त मंत्री ने सरकार (Government) की ओर से किए गए आर्थिक राहत के ऐलान पर भी खुशी जाहिर की थी. उन्होंने कहा कि सरकार (Government) की ओर से फाइनेंसियल ऐक्शन प्लान लाया गया है. वह उनकी ओर से सुझाए गए 10 बिंदुओं से मिलता जुलता है. लेकिन हालात को यह देखते हुए यह काफी नहीं है. सरकार (Government) को जल्द ही अहसास होगा कि इसमें और भी कुछ करने की जरूरत है.

  आदर्श शौचालयों का निर्माण करवाया जा रहा है : पायलट

पी.चिदंबरम ने ट्वीटर पर कहा, ‘आप देखेंगे कि किरायेदार किसानों और निराश्रितों को मदद, रोजगार और मजदूरी के मौजूदा स्तर को बनाए रखने, कर अवहेलना, ईएमआई स्थगन, जीएसटी दर में कटौती, आदि जैसे सुझावों पर ध्यान नहीं दिया गया है. आइए उम्मीद करते हैं कि शीघ्र ही एक प्लान-2 होगी. उन्होंने कहा, योजना तीन महीने के लिए गरीबों को पर्याप्त अतिरिक्त खाद्यान्न देती है, और यह स्वागत योग्य है. योजना में गरीबों की जेब में पर्याप्त नकदी नहीं देता है. कुछ वर्गों को पूरी तरह से छोड़ दिया गया है’. हमारा अनुमान (अतिरिक्त धन जो हस्तांतरित किया जाएगा (अनाज और दालों के मूल्य सहित) 1 लाख करोड़ रुपये है. आवश्यक है लेकिन पर्याप्त नहीं है.

Please share this news