परिवार से मिलने शाकिब को करना पड़ा इंतजार


ढ़ाका . कोरोना (Corona virus) महामारी (Epidemic) के बीच ही बांग्लादेश के क्रिकेटर शाकिब अल हसन अपने परिवार से मिलने अमेरिका पहुंचे थे पर उन्हें इसके लिए 14 दिनों का लंबा इंतजार करना पड़ा. शाकिब की पत्नी उमे अहमद शिशिर बेटी के साथ अमेरिका में रहती हैं. अमेरिका में लॉकडाउन (Lockdown) होने से पहले 21 मार्च को शाकिब अपने परिवार से मिलने अमेरिका पहुंच गए थे.

  थाना प्रभारी की आत्महत्या की जाए सी‍बीआई जांच: बेनीवाल

हालांकि उन्हें परिवार के पास जाने से पहले 14 दिन के लिए आईसोलेट किया गया और वह होटेल में ही रहे. उन्हें होटेल में भी किसी से मिलने की अनुमति नहीं थी और 14 दिन तक उन्हें अकेले रहना था. शाकिब जिस होटेल में रुके थे वहां से पांच मिनट की दूरी पर ही उनका घर है जहां उनकी पत्नी औऱ बेटी रह रहे थे. इसके बावजूद वह 14 दिन तक उनसे दूर रहे हैं. आईसोलेशन का समय पूरा होने के बाद ही शाकिब को उनके परिवार से मिलने दिया गया.

  कोविड-19 के कारण शहरों और गांवों में बदलेगा सामान खरीदने का पैटर्न

शाकिब ने कोरोना वायरल के खतरे को देखते हुए एक फाउंडेशन बनाई है जिसका मिशन, ‘ कोरोना से बांग्लादेश बचाओ लेकर है’. अपने फेसबुक पेज पर शाकिब अल हसन ने प्रशंसकों को बताया है कि उनका मकसद गरीब परिवारों की मदद करना है जो कोरोना (Corona virus) से पीड़ित हैं. शाकिब के अलावा मशरफे मोर्ताजा, रुबेल हुसैन, लिट्टन दास और मोसाद्देक हुसैन ने भी लोगों से संकट की इस घड़ी में हरसंभव सहायता देने की अपील की है.

Please share this news