मोटे और बदसूरत लोगों के वीडियो टिकटॉक पर नहीं होगा लोड


लंदन . वीडियो शेयरिंग एप टिक टॉक ना सिर्फ भारत बल्कि अन्य देशों में भी काफी लोकप्रिय है. क्या बच्चा क्या बूढ़ा हर किसी के लिए टिकटॉक पहली पसंद बन गया है. अकेलेपन में साथ देने के साथ पैसे कमाने का मौका देता है. टिकटॉक पर वीडियो अपलोड कर लाखों रुपए कमा रहे हैं. लेकिन अब यहां दिखने में बदसूरत (Surat), गरीब या फिर दिव्यांग की वीडियो नहीं दिखाई देने वाले है.

  मोदी सरकार के 6 साल पूरे, "आत्मनिर्भर भारत का संकल्प लेकर 10 करोड़ घरों तक पहुंचेगें भाजपा कार्यकर्ता

क्योंकि टिकटॉक इन पर रोक लगाने पर विचार कर रहा है. एक रिपोर्ट के मुताबिक टिकटॉक की ​कुछ गाइडलाइन द इंटरसेप्ट के हाथ में लग गई है. इसमें यह बात सामने आई है कि टिक टॉक असामान्य बॉडी शेप, मोटापा, अलग दिखने वाले लोग और ज्यादा रिंकल फेस वाले लोगों के वीडियोज को बैन करने जा रहा है. टिकटॉक ने अपने मॉडरेटर्स को दिए निर्देश में स्पष्ट लिखा कि जब भी यूजर्स अपनी टाइमलाइन पर जाए उस ऐसा कंटेंट नज़र आना चाहिए जो उस ऐसा फील कराए कि वहां उसके लिए ही बनाया जा रहा है. इसी के तहत बेकार के कंटेंट को फ़िल्टर कर देने के भी निर्देश हैं.

  रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सीडीएस और तीनों सेना प्रमुखों के साथ की बैठक

टिक टॉक गाइडलाइन के मुताबिक ख़राब दिखने वालों का वीडियो भी ख़राब दिखेगा और नए यूजर्स को आकर्षित नहीं कर पाएगा. इस पर टिकटॉक के प्रवक्ता ने कहा कि कंपनी का उद्देश्य सिर्फ ख़राब कंटेंट जो कि समाज के लिए नुकसानदायक हैं उन्हें हटाना है. टिकटॉक के मुताबिक उन्हें लगातार ऐसी रिपोर्ट्स मिल रही हैं कि प्लेटफॉर्म का गलत इस्तेमाल भी हो रहा है और कंपनी बस इसे ही रोकना चाहती है.

Please share this news