सत्‍य को परेशान किया जा सकता है, पराजित नहीं, मंत्री पद छिनने के बाद सचिन पायलट की प्रतिक्रिया


जयपुर (jaipur) . राजस्‍थान (Rajasthan)में तीन दिन से चल रहे हाई बोल्टेज ड्रामे के बाद आज मंगलवार (Tuesday) को कांग्रेस ने विधायक दल की बैठक में प्रस्‍ताव पारित कर डिप्टीसीएम सचिन पायलट तथा उनके समर्थक दो मंत्रियों को पद से हटा दिया. इसके तुरंत बाद सचिन पायलट ने ट्वीट किया, ‘सत्‍य को परेशान किया जा सकता है, पराजित नहीं.’ कार्रवाई से पहले सचिन पायलट और उनके समर्थकों ने अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) को सीएम मानने से इनकार कर दिया था.

  मौत की अफवाहों के बीच सामने आए सुशांत के फ्लैटमेट सैमुअल, कहा मैं ठीक हूं जिंदा हूं

सूत्रों के हवाले से यह भी खबर सामने आई कि पायलट ने कांग्रेस नेतृत्‍व के सामने खुद को सीएम बनाने की शर्त रख दी थी. इसके बाद पायलट और कांग्रेस के आला नेताओं के बीच चल रही बातचीत थम गई थी. राजस्थान (Rajasthan) में सचिन पायलट को मंत्री पद से बर्खास्त किए जाने के साथ-साथ पीसीसी चीफ के पद से भी हटा दिया गया है. पायलट के साथ ही उनके समर्थक दो अन्य मंत्रियों कैबिनेट मंत्री विश्वेन्द्र सिंह और रमेश मीणा को भी मंत्री पद से बर्खास्त कर दिया गया है.

  अमेरिका-ब्राजील को पछाड़कर भारत अब शीर्ष पर पहुंचा, एक दिन में सर्वाधिक पॉजिटिव केस

सचिन पायलट की जगह अब शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद सिंह डोटासरा को राजस्थान (Rajasthan) प्रदेश कांग्रेस कमेटी का नया अध्यक्ष बनाया गया है. इधर, कांग्रेस के बागी विधायकों ने भी आलाकमान को पत्र भेजकर अपनी स्थिति स्पष्ट की है. पत्र में विधायकों ने लिखा है कि हम अपने आत्मसम्मान के लिए यह स्टैंड ले रहे हैं. सचिन पायलट और हम लोग छह साल तक मेहनत कर पार्टी को सत्ता में लाए. वर्षों तक पार्टी के लिए जी-जान से काम किया, फिर भी हमें नोटिस और कार्रवाई के नाम पर डराया जा रहा है.

Please share this news