श्रमिकों कामगारों को लेकर 1411 ट्रेने यूपी में आयी, अगले दो तीन दिन में 1551 ट्रेने प्रदेश में आ जायेंगी


लखनऊ (Lucknow) . उप्र में प्रवासी श्रमिकों कामगारों को लेकर अब तक 1411 ट्रेने आ चुकी है और अगले दो तीन दिन में 1551 ट्रेने प्रदेश में आ जायेंगी. इस तरह करीब 19 लाख श्रमिकों को ट्रेनों के जरिए यूपी सरकार (Government) उन्हें वापस अपने गृह प्रदेष लायी है. अपर मुख्य सचिव गृह और सूचना अवनीश अवस्थी ने गुरुवार (Thursday) को यहां बताया कि प्रवासी श्रमिकों और कामगारों को ट्रेन और बस से वापस लाने का काम अब दो से तीन दिन में समाप्त हो जायेंगा. अब तक प्रदेश में गुजरात, दिल्ली, पंजाब, तेलंगाना, कर्नाटक (Karnataka), राजस्थान (Rajasthan), हरियाणा (Haryana) (Haryana) आदि राज्यों से श्रमिक वापस आ चुके है.

उन्होंने बताया कि देश में सबसे अधिक कामगार उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में आये हैं. प्रदेश में अब तक 1551 ट्रेन के माध्यम से लगभग 21.59 लाख से अधिक कामगार एवं श्रमिक को लाये जाने की व्यवस्था की गई है, इनमें से अब तक 1411 ट्रेन से 19 लाख से अधिक लोगों को प्रदेश में लाया जा चुका है. इसके साथ ही 140 ट्रेन को और सहमति प्रदान की गई है. सभी जनपदों के जिलाधिकारी द्वारा सम्बंधित जनपदों में ट्रेन से आ रहे कामगारों, श्रमिकों का स्वास्थ्य परीक्षण कराकर उनको उनके घर तक पहुंचाया जा रहा है.

  वेंकैया नायडू बोले- भविष्य के भवनों में सुंदरता और मजबूती का सही संतुलन जरूरी

उन्होंने बताया कि गोरखपुर में अब तक 234 ट्रेन से 2,99,861 कामगार एवं श्रमिक आये हैं. लखनऊ (Lucknow) में 94 ट्रेन के माध्यम से 1,22,179 लोग आए हैं. वाराणसी में 100, आगरा (Agra) में 10, कानपुर (Kanpur) में 17, जौनपुर में 110, बरेली में 12, बलिया में 66, प्रयागराज (Prayagraj)में 61, रायबरेली में 21, प्रतापगढ़ में 68, अमेठी में 16, मऊ में 46, अयोध्या में 35, गोण्डा में 66, उन्नाव में 27, बस्ती में 70 ट्रेन जबकि आजमगढ़ में 35, कन्नौज में 03, गाजीपुर में 31, बांदा में 16, सुल्तानपुर में 23, बाराबंकी में 12, सोनभद्र में 03, अम्बेडकरनगर में 23, हरदोई में 19, सीतापुर में 10, फतेहपुर में 08, फर्रूखाबाद में 02, कासगंज में 09, चंदौली में 13, इटावा मेें 01, मानिकपुर (चित्रकूट) में 01, एटा में 01, जालौन में 02, रामपुर में 01, शाहजहांपुर (Shahjahanpur) में 01, अलीगढ़ में 06, भदोही (Bhadohi) में 02, मिर्जापुर में 10, देवरिया में 93, सहारनपुर में 04, चित्रकूट में 03, बलरामपुर में 19, मुजफ्फरनगर में 01, झांसी में 05, पीलीभीत में 01 ट्रेन आ चुकी हैं. कौशांबी, श्रावस्ती, सिद्धार्थनगर, महराजगंज, संत कबीर नगर, कुशीनगर, हमीरपुर, बहराइच, लखीमपुर खीरी में भी ट्रेन आ रही हैं.

  सरकार गिराने के षड़यंत्र पर भाजपा पर बिफरे सीएम गहलोत

अपर मुख्य सचिव ने बताया कि प्रदेश में गुजरात से 490 ट्रेन से 7,12,678 लोग, महाराष्ट्र (Maharashtra) से 327 ट्रेन से 4,55,005 लोग, पंजाब (Punjab) से 228 ट्रेन से 2,67,383 कामगारों, श्रमिकों को लेकर प्रदेश में आ चुकी हैं. इसके साथ ही तेलंगाना से 23, कर्नाटक (Karnataka) से 53, केरल से 11, आन्ध्र प्रदेश से 10, तमिलनाडु से 30, मध्य प्रदेश से 02, राजस्थान (Rajasthan) से 35, गोवा से 18, दिल्ली से 94, छत्तीसगढ़ से 01, पश्चिम बंगाल (West Bengal) से 01, उड़ीसा से 01 ट्रेन, असम से 02 ट्रेन, त्रिपुरा से 01 ट्रेन, हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) से 03 ट्रेन, उत्तराखण्ड (Uttarakhand)से 01 तथा उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के विभिन्न जिलों से 81 ट्रेनों के माध्यम से प्रदेश के विभिन्न जनपदों में कामगारों, श्रमिकों को पहुंचाया गया है.

  कोरोना के दौर में भाजपा अमानवीय एवं संवेदनहीन व्यवहार कर रही है : अखिलेश

उन्होंने कहा कि प्रदेश में कहीं भी, किसी भी जनपद में कोई पैदल यात्रा न करे. कामगार, श्रमिक स्वयं तथा अपने परिवार को जोखिम में डालकर पैदल अथवा अवैध व असुरक्षित वाहन से घर के लिए यात्रा न करें. सरकार (Government) सभी श्रमिकों, कामगारों के लिए सुरक्षित यात्रा हेतु पर्याप्त निःशुल्क बस एवं ट्रेन की व्यवस्था कर रही है.

Please share this news