ओलंपिक टलने से सुशील को पदक जीतने की उम्मीदें बनीं

नई दिल्ली (New Delhi) . अनुभवी पहलवान सुशील कुमार उम्र 2021 में होने वाले टोक्यो ओलंपिक की तैयारियों में लगे हुए हैं. सुशील ओलिंपिक के लिए क्वॉलिफाइ करने का प्रयास कर रहे थे पर कोरोना महामारी (Epidemic) के कारण खेल एक साल के लिए स्थगित हो गये हैं. इससे सुशील को उम्मीद है कि उन्हें अभ्यास के लिए पर्याप्त समय मिल जाएगा. खेल के एक साल तक टलने के बाद उन्हें एक बार फिर से पदक जीतने की उम्मीदें हो गयी हैं. सुशील अगले महीने 37 साल के हो जाएंगे और अगर वह इस साल जुलाई में प्रस्तावित ओलिंपिक के लिए क्वॉलिफाइ करते तो सबसे अधिक उम्र वाले खिलाड़ियों में शामिल रहेंगे.

  राहुल के वीडियो को मायावती ने बताया नाटक

सुशील ने कहा है कि अभी उनकी संन्यास की कोई योजना नहीं है और वह अभ्यास करते रहेंगे. उन्होने कहा, ‘मैं अभी कही नहीं जा रहा हूं. मुझे अधिक समय मिला है और अधिक समय का मतलब होता है बेहतर तैयारी.’ 2019 विश्व चैंपियनशिप में वापसी करते हुए वह शुरुआती दौर से ही बाहर हो गए थे. उन्होंने कहा, ‘कुश्ती एक ऐसा खेल है जिसमें अगर आप फिट रहते हैं, अच्छी तरह से अभ्यास करते हैं और लक्ष्य निर्धारित कर उस पर काम करते हैं तो आप उसे हासिल कर सकते हैं. मैं अभी रोजाना दो बार अभ्यास करता हूं. जाहिर है मैं मैट पर नहीं उतर रहा हूं पर अपने को फिट रखने की कोशिश कर रहा है. भगवान ने चाहा तो ओलिंपिक के लिए क्वॉलिफाइ जरूर करूंगा.’
गौरतलब है कि सुशील 74 किग्रा भार वर्ग में प्रतिस्पर्धा करते हैं जिसके लिए भारत ने ओलिंपिक कोटा हासिल नहीं किया था. सुशील का मानना है कि वह उम्र संबंधी चुनौतियों से पार पा लेंगे. उन्होंने कहा, ‘लोग साल 2011 में भी इसी तरह की बातें कह रहे थे. मुझे पता है कि इसे कैसे संभालना है. मैं इसके लिए रोज मेहनत कर रहा हूं.’

Please share this news