नकल रोकने में हरियाणा शिक्षा बोर्ड बेबस, 2450 मामले दर्ज


भिवानी . हरियाणा (Haryana) विद्यालय शिक्षा बोर्ड के लाख प्रयासों के बाद भी 10वीं व 12वीं की परीक्षाओं में नकल और पेपर आउट होने के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे. इन पर रोकथाम के लिए शिक्षा बोर्ड प्रशासन बेबस नजर आ रहा है. हालांकि बोर्ड प्रशासन का दावा है कि भले ही पेपर आऊट हो पर केन्द्रों के अंदर तक नकल नहीं जाती. साथ ही उम्मीद है कि जल्द ही पेपर आउट करने वाले गिरोह का खुलासा होने वाला है.

  दिल्ली में पहली बार एक ही दिन में 1024 नए कोरोनावायरस संक्रमित मिले

गौरतलब है ‎कि इस बार हरियाणा (Haryana) विद्यालय शिक्षा बोर्ड द्वारा आयोजित 10वीं व 12 वीं की परीक्षाओं के लिए प्रदेश भर में 1685 परीक्षा केन्द्र बनाए गए हैं जिनमें 7 लाख 41 हजार 460 बच्चे अलग-अलग दिनों में अलग-अलग विषयों की परीक्षाएं दे रहे हैं. इन परीक्षाओं को नकल रहीत व बिना किसी बाधा के संपन्न करवाने के लिए शिक्षा बोर्ड ने हाईटेक प्रबंधन करते हुए 327 उड़नदस्तों की टीम गठित की हुई है. इतने बड़े तामझाम, जिला प्रशासन, पुलिस (Police) व पंचायतों के सहयोग के बाद भी शिक्षा बोर्ड इन परीक्षाओं को नकल रहित व बिना किसी बाधा के करवाने को लेकर बेबस नजर आ रहा है.

  गरीब और किसानों को राहत पहुंचाने के विकल्प मोदी सरकार की ओर से खुले हैं: सूत्र

शिक्षा बोर्ड के चेयरमैन डॉ. जगबीर सिंह ने बताया कि परीक्षाओं को शांतिपूर्वक करवाने के लिए हर तरह के प्रबंध किए गए हैं. अब तक प्रदेश भर में 2450 नकल के मामले दर्ज किए गए हैं. 18 केन्द्रों की परीक्षा रद्द की गई है और 7 केन्द्रों को शिफ्ट किया गया है. यही नहीं 80 से ज्यादा अध्यापकों की लापरवाही पाए जाने पर उनके खिलाफ शिक्षा विभाग को कार्रवाई के लिए लिखा गया है.

Please share this news