वित्तमंत्री ने कहा, भारतीय कंपनियों का अधिग्रहण ‘औने-पौने’ दाम पर नहीं होने देगी सरकार


नई दिल्ली (New Delhi) . वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि मोदी सरकार (Government) यह सुनिश्चित करेगी कि भारतीय कंपनियों का अधिग्रहण ‘औने-पौने’ दाम पर नहीं हो. भारतीय कंपनियों के आक्रामक तरीके से अधिग्रहण को लेकर चिंता के बीच वित्त मंत्री का यह बयान आया है. कोविड-19 (Covid-19) की वजह से लागू लॉकडाउन (Lockdown) के कारण मांग घटने से दुनियाभर में उद्योग प्रभावित हुए हैं.

  कोरोनिल को लेकर राजस्थान हाईकोर्ट का नोटिस, चार सप्ताह में मांगा जवाब

वित्त मंत्री ने कहा कि इसके बाद अधिक नकदी रखने वाले खिलाड़ियों के पास सस्ते मूल्यांकन पर कंपनियों को खरीदने का अवसर है. वित्त मंत्री ने कहा, वास्तविकता यही है. लेकिन हम यह सुनिश्चित करने वाले हैं कि जिन कंपनियों को भारतीयों ने अपने पसीने से खड़ा किया है, जिनका ब्रैंड मूल्य है, उन्हें वे लोग नहीं खरीद पाएं, जो सिर्फ अवसर का इंतजार कर रहे हैं.’

  कांग्रेसी नेताओं ने केंद्र सरकार के खिलाफ राजघाट पर प्रदर्शन किया

सीतारमण ने कहा, यही वजह है,इस लेकर हमें चिंता है. हम निश्चित रूप कुछ करने वाले हैं, जिससे भारतीय उद्योगों का अधिग्रहण औने-पौने दाम पर नहीं हो सके. हम चाहते हैं कि सब कुछ सामान्य होने के बाद वे अपने कारोबार को आगे बढ़ाएं. बता दें कि चालू वित्त वर्ष के लिए सरकार (Government) ने विनिवेश से 2.1 लाख करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य रखा है. पिछले वित्त वर्ष का लक्ष्य केवल 65 हजार करोड़ रुपये था. वित्त वर्ष 2018-19 में विनिवेश के जरिये 94,727 करोड़ रुपये जुटाए थे. इस साल एयर इंडिया, भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड जैसी कंपनियों में सरकार (Government) विनिवेश करने की योजना बनाई थी.

Please share this news