यौन उत्पीड़न मामले में कार्डिनल की सजाओं को रद्द किया गया

कैनबरा . ऑस्ट्रेलिया के उच्चतम न्यायालय ने बाल यौन उत्पीड़न मामले में दोषी करार हो चुके, सबसे वरिष्ठ कार्डिनल की सजाओं को रद्द कर उन्हें दोषमुक्त कर दिया है. हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस सुसान कीफल ने कार्डिनल जॉर्ज पेल की याचिका पर मंगलवार (Tuesday) को सात न्यायाधीशों के फैसले की घोषणा की. इसके बाद वह 13 माह की सजा काटने के बाद बार्वन जेल से रिहा कर दिए जाएंगे. उन्हें इस मामले में छह साल की सजा सुनाई गई थी.

  कोरोना संक्रमित मरीजों को अब थाइरॉयड बीमारी का खतरा : शोध

पोप फ्रांसिस के पूर्व वित्त मंत्री को 2018 में विक्टोरिया राज्य की जूरी ने दिसंबर 1996 में मेलबर्न के सेंट पैट्रिक्स कैथेड्रल में गायकमंडली के 13 साल के दो लड़कों के यौन उत्पीड़न का दोषी पाया था. पेल को पैरोल का पात्र होने से पहले जेल में तीन साल आठ महीने की सजा काटने का आदेश दिया गया था. हाई कोर्ट ने पाया कि विक्टोरिया की अपीली अदालत अपने 2-1 बहुमत वाले फैसले में गलत थी. विक्टोरिया की अपीली अदालत ने जूरी के फैसले को बरकरार रखा था. पेल को वेटिकन का तीसरा उच्च रैंकिंग अधिकारी माना जाता है. वह वर्षों पहले अपने ऊपर लगे बाल यौन उत्पीड़न के कई आरोपों को गलत साबित करने के संकल्प के साथ स्वयं अपनी इच्छा सेजुलाई 2017 में मेलबर्न लौट कर आए थे.

Please share this news