चेन्नई में कोरोना से मृत डॉक्टर को दफनाने से रोकने के लिए भीड़ ने किया एम्बूलेंस पर हमला


चेन्नई . देश में इस वक्त कोरोना (Corona virus) महामारी (Epidemic) के खिलाफ जंग चल रही है. इससे इतर एक जंग सामाजिक स्तर पर भी लड़ी जा रही है. स्वास्थ्यकर्मियों या किसी कोरोना (Corona virus) से पीड़ितों को सामाजिक स्तर पर दुर्व्यवहार का सामना करना पड़ रहा है. चेन्नई में पिछले कुछ दिनों में ऐसे मामले सामने आए हैं, जहां पर कोरोना (Corona virus) से पीड़ित व्यक्ति को जब दफनाने के लिए ले जाया गया, तो लोगों ने कब्रिस्तान के पास ही हंगामा शुरू कर दिया.

चेन्नई में सोमवार (Monday) को जब एक डॉक्टर (doctor) के शव को दफनाने के लिए कब्रिस्तान ले जाया गया, तो वहां पर 50 से अधिक लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गई. भीड़ ने एम्बुलेंस पर हमला बोल दिया, बता दें कि इस 55 वर्षीय डॉक्टर (doctor) की मौत कोरोना (Corona virus) की वजह से हुई है. जब भीड़ पर वहां मौजूद पुलिस (Police) काबू नहीं पा पाई, तो उन्होंने डॉक्टर (doctor) के परिजनों से अपील करते हुए शव को किसी दूसरे कब्रिस्तान में ले जाने के लिए कहा. जिसके बाद दूर किसी कब्रिस्तान में डॉक्टर (doctor) के शव को दफनाया गया.

  कोरोनिल दवा पर असिस्टेंट सॉलिसिटर जनरल को नोटिस

इस मामले में अब पुलिस (Police) की ओर से 20 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है. पुलिस (Police) ने लॉकडाउन (Lockdown) उल्लंघन, हथियार से हमला करने, सरकारी कर्मचारी को ड्यूटी से रोकने के खिलाफ केस दर्ज किया गया है. ऐसा पहली बार नहीं हुआ है जब तमिलनाडु से इस प्रकार का मामला सामने आया हो. बीते दिनों 13 अप्रैल को भी एम्बातुर के नागरिकों ने कब्रिस्तान के बाहर हंगामा किया था. तब एक 62 वर्षीय डॉक्टर (doctor) की मौत कोरोना (Corona virus) की वजह से हो गई थी और उसे जब कब्रिस्तान में दफनाने के लिए ले गए तो लोगों ने हंगामा शुरू कर दिया.

  अमेरिका ने हुआवे और जेडटीई पर लगाया बैन

तब भी पुलिस (Police) और स्थानीय प्रशासन की सहायता से डॉक्टर (doctor) के शव को किसी दूसरे कब्रिस्तान में दफनाया गया. आपको बता दें कि देश के अलग-अलग हिस्सों से ऐसे कई मामले सामने आए हैं, जहां पर कोरोना (Corona virus) से पीड़ित व्यक्ति के साथ दुर्व्यवहार हुआ है. या फिर कोरोना (Corona virus) से लड़ाई में सबसे आगे खड़े डॉक्टरों (Doctors) के साथ भी दुर्व्यवहार हुआ है.

Please share this news