चीनी सेना ईस्टर्न लद्दाख के पास उड़ा रही लड़ाकू विमान, भारत भी बनाए है पैनी नजर


नई दिल्ली (New Delhi) . पूरी दुनिया में कोरोना फैलाकर अब चीन भारत और चीन बार्डर पर सक्रिय हो गया है. मई महीने की शुरुआत से सीमा पर जारी तनाव अब तक थमा नहीं है. लद्दाख के पास जारी विवाद बढ़ता जा रहा है और अब खबर है कि चीनी सेना ईस्टर्न लद्दाख के पास अपने लड़ाकू विमान भी उड़ा रही है. लेकिन भारत की ओर से चीन की हर चाल पर पैनी नज़र रखी जा रही है. ईस्टर्न लद्दाख के पास होतान, गरगुन्सा के पास चीनी सेना पीएलए की एयरफोर्स का बेस है, जहां पर चीनी फाइटर प्लेन भी तैनात हैं. भारतीय खुफिया एंजेसियां अब सर्विलांस की मदद से इस इलाके में पूरी तरह से नज़र गढ़ाए हुए हैं.

  रेलवे का निजीकरण रक्तशिराओं काटने जैसा : छोटे फायदे के लिए आधी से ज्यादा आबादी का नुकसान नहीं करें

सूत्रों की मानें, तो चीनी आर्मी ने करीब 10-12 जे-7, जे-17 लड़ाकू विमान तैनात किए गए हैं. जो कि भारतीय सीमा के करीब तीस किमी. तक उड़ान भर रहे हैं.  हालांकि, बॉर्डर पर जो दूरी है वो चिंता वाली बात नहीं है, लेकिन भारत की ओर से किसी भी तरह का रिस्क नहीं लिया जा रहा है. गौरतलब है कि चीन की किसी भी चाल से निपटने के लिए भारत ने मई की शुरुआत में ही ईस्टर्न लद्दाख में अपने एयरबेस पर सेना के हेलिकॉप्टर और लड़ाकू विमान भेज दिए थे. एक वक्त था जब भारत और चीनी हेलिकॉप्टर आमने-सामने भी आ गए थे.

  मोदी कैबिनेट ने योजनाओं से जुड़ी सुविधा की अवधि बढ़ाने को दी मंजूरी

ईस्टर्न लद्दाख के उसपार बना होतान एयर बेस भारत की नज़रों में है और पिछले एक साल से इसपर पैनी निगाहें हैं. क्योंकि पाकिस्तान की सेना भी यहां चीन के साथ मिलकर प्रैक्टिस कर रही थीं. सूत्र के अनुसार, पिछले साल जब 6 पाकिस्तानी जे17 स्कार्दू एयरफील्ड में आए थे, तब भी हमने पूरी नजर रखी थी. भारत की ओर से भी लगातार लद्दाख के बॉर्डर पर पैनी नजर रखी जा रही है और उसपार चीन की हरकतों को देखने के लिए यूएवी का इस्तेमाल किया जा रहा है. ताकि चीन की किसी भी तरह की चाल को पहले ही पहचान लिया जाए. गौरतलब है कि भारत की ओर से पहले ही कहा जा चुका है कि वो तनाव नहीं चाहता है, ऐसे में दोनों देश बातचीत के मसले से इस विवाद को सुलझाने में जुटे हैं.

Please share this news