नये सिरे से ओलिंपिक की मेजबानी जापान के लिए चुनौती, कई चुनौतियों के पहाड लांघने होंगे जापान को


टोक्यो . टोक्यो ओलिंपिक को एक साल के लिये टलने के बाद अब जापान के सामने नये सिरे से खेलों की मेजबानी की तैयारी की चुनौती है. यह चुनौती कई पहाड़ लांघने जैसी होंगी. इन खेलों से जुड़े हर पहलू मसलन आयोजन स्थलों, सुरक्षा, टिकट और रहने की व्यवस्था पर नये सिरे से काम करना होगा. अभी यह भी तय नहीं है कि खेलों की तारीखें क्या होगी. अंतरराष्ट्रीय ओलिंपिक समिति (आईओसी) के प्रमुख थामस बाक ने कहा कि जरूरी नहीं है कि खेल गर्मियों में ही कराये जायें. उन्होंने कहा ‘सारे विकल्प खुले हैं.

अंतरराष्ट्रीय पैरालम्पिक समिति के प्रवक्ता क्रेग स्पेंस ने कहा,’ ऐसा लग रहा है कि दुनिया की सबसे बड़ी जिगसॉ पहेली पूरी करने में बस एक टुकड़ा लगाना था और अब नये सिरे से शुरू करना होगा. समय भी बहुत नहीं रह गया है.’ जापान ने इन खेलों को ‘रिकवरी ओलिंपिक’ के तौर पर प्रचारित किया था. वह दुनिया को दिखाना चाहता है कि भूकंप, सुनामी और परमाणु रिसाव की त्रासदी झेलने के बाद भी वह खेलों की मेजबानी करने में सक्षम है.प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने कहा कि अगले साल होने वाले तोक्यो 2020 इस नये वायरस पर इंसान की जीत की बानगी देंगे.’ जापान सरकार (Government) के प्रवक्ता ने कहा- अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से बातचीत में भी उन्होंने यही संदेश दोहराया.

  एक जून से घरेलू उड़ानों का परिचालन करेगी गोएयर

दोनों नेताओं ने इस पर सहमति जताई कि ये खेल नये कोरोना (Corona virus) पर इंसान की जीत का सबूत होंगे! टोक्यो 2020 के अध्यक्ष याशिरो मोरी ने कहा,’हमारे पास उम्मीद बनाये रखने के सिवाय कोई चारा नहीं है. मैं कैंसर से जूझकर आज आपके सामने जिंदा हूं. मुझे एक नयी दवा ने बचाया.हम सब कुछ ठीक होने की उम्मीद करते हैं.’ वहीं अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कोरोना (Corona virus) महामारी (Epidemic) के चलते टोक्यो ओलंपिक को स्थगित करने के जापान के फैसले का बुधवार (Wednesday) को स्वागत किया और संकेत दिये कि वह अगले साल होने वाले ओलंपिक खेलों में भाग ले सकते हैं.

  आयुष्मान कर रहे बुजुर्गो को जागरुक

ट्रंप ने ट्वीट किया, ‘जापान के प्रधानमंत्री (शिंजो) आबे और आईओसी (अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति) को ओलंपिक 2021 में आयोजित कराने के बुद्धिमानी भरे फैसले के लिये बधाई.’ उन्होंने कहा, ‘ये बेहद सफल होंगे और मैं वहां मौजूद रहने के लिये तैयार हूं.’ बता दें टोक्यो ओलिंपिक आयोजकों के सामने अब कई प्रश्न खड़े हो गए हैं. मसलन क्या आयोजन स्थल उपलब्ध होंगे? टिकटधारकों और स्वयंसेवियों का क्या? अगले साल के खेल कैलेंडर में ओलिंपिक के लिये जगह कैसे बनेगी? खेलगांव का क्या जहां 4000 से ज्यादा आलीशान अपार्टमेंट बने हैं और कई बिक चुके हैं ? होटलों की बुकिंग का क्या?

Please share this news