रोने वाले शिशुओं का बेहतर होता है विकास


नई दिल्ली (New Delhi) . शिशुओं के रोने की आवाज सुनकर माता समेत घर के सभी सदस्य चिंतित हो जाते हैं. वही एक नए शोध में कहा गया कि शिशुओं को कुछ देर रोने देना चाहिए, क्योंकि इससे आगे चलकर उनकी शारीरिक और मानसिक क्षमता बेहतर होती है. तीन महीने से 18 महीने की उम्र वाले बच्चे को कुछ देर तक रोने देना चाहिए.

  अर्थव्यवस्था का निर्माण स्थानीय कौशल के बूते करने की जरूरत : प्रभु

उनके रोने पर अगर आप तुरंत उसके पास पहुंच जाते हैं, तो यह उसके विकास पर असर डाल सकता है. यह दावा ब्रिटेन की वारविक यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों की ताजा शोध में किया गया है. जन्म से लेकर डेढ़ साल की उम्र तक के बच्चों को अगर रोते हुए छोड़ दिया जाए, तो उनकी मानसिक और शारीरिक क्षमता मजबूत होती है, साथ ही वे धीरे-धीरे आत्म-अनुशासन भी सीख जाते हैं. हालांकि जब बच्चे रो रहे हों, तो उन पर नजर बनाए रखनी चाहिए.

Please share this news