वुहान में कोरोना संक्रमण फैलने के बाद चीन से अमेरिका पहुंचे 4,30,000 लोग, जिससे अमेरिका में मची तबाही


न्यूयार्क . चीन में कोरोना (Corona virus) के प्रकोप के कुछ दिन बाद 4,30,000 लोग चीन से आने वाली सीधी उड़ानों से अमेरिका पहुंचे थे. इनमें से कई ऐसे थे जिन्होंने वायरस के केंद्र वुहान से सीधे अमेरिका की यात्रा की थी. राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के यात्रा प्रतिबंध लगाने से पहले चीन से करीब 1,300 सीधी उड़ानें अमेरिका के 17 राज्यों में उतरीं और लाखों लोगों को यहां पहुंचाया. माना जा रहा है कि इन्ही लोगों की वजह से अमेरिका में कोरोना (Corona virus) का संक्रमण फैला.

  बाबरी विध्वंस प्रकरण-अब अभियुक्तों के बयान चार जून को होंगे दर्ज

चीन के अधिकारियों की ओर से नए साल की पूर्व संध्या पर अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य अधिकारियों के समक्ष इस प्रकोप का खुलासा निमोनिया जैसी रहस्यमयी बीमारी बता कर किए जाने के बाद से कम से कम 4,30,000 लोग चीन से सीधी उड़ानों से अमेरिका पहुंचे. दोनों देशों में एकत्र किए गए आंकड़ों के मुताबिक इनमें 40,000 वे लोग भी शामिल थे जिन्होंने ऐसी यात्राओं पर राष्ट्रपति ट्रंप की ओर से प्रतिबंध लगाए जाने के दो महीने बाद तक यात्रा की.

  कोरोना वायरस जन‍ित बीमारी का इन्दौर में 'जादुई उपचार'!

यह भी बताया गया कि हवाईअड्डों पर और चीन से आ रहे यात्रियों (Passengers) की जांच प्रक्रिया सख्त नहीं थी. जनवरी के शुरुआती दिनों में जब चीनी अधिकारी प्रकोप की गंभीरता को कम आंक रहे थे, चीन से आने वाले किसी यात्री की जांच नहीं की जा रही थी जिससे पता चल सके कि वह संक्रमित है या नहीं. इसमें बताया गया कि स्वास्थ्य की जांच जनवरी के मध्य से शुरू हुई लेकिन केवल वुहान से आने वाले यात्रियों (Passengers) की और वह भी केवल लॉस एंजिलिस, सैन फ्रांसिस्को और न्यूयॉर्क के हवाईअड्डों पर. खबर में चीन की विमानन डेटा कंपनी वारीफ्लाइट के हवाले से कहा गया उस वक्त तक करीब 4,000 लोग वुहान से सीधे अमेरिका आ चुके थे.

Please share this news