लॉकडाउन के दौरान मजदूरी के भुगतान से छूट मिलने की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने केन्द्र से मांगा जबाव


नई दिल्ली (New Delhi) . लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान मजदूरी के भुगतान से छूट मिलने की आस लिए कंपनियों ने सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) में याचिका लगाई है. याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) के तीन जजों की बेंच ने केंद्र से अनुरोध किया है कि इस मुद्दे पर तत्काल व्यवहार करें क्योंकि बहुत सारे लोग प्रभावित हैं. दरअसल, कंपनियों के समूह ने सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) में याचिका दाखिल करके कहा कि वे श्रमिकों को मजदूरी का भुगतान नहीं कर सकते हैं, क्योंकि उनके पास पर्याप्त वित्तीय भंडार नहीं है. इस पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने केंद्र सरकार (Government) से एक सप्ताह में विस्तृत जवाब दाखिल करने को कहा है.

  खंडाला-लोनावला रेल खंड पर मध्य रेल का ग्रीन इनिशिएटिव

याचिका पर सुनवाई के दौरान अटार्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कहा कि सरकार (Government) ने 17 मई को एक नई अधिसूचना पारित की है, जो 29 मार्च की गृह मंत्रालय (Home Ministry) की अधिसूचना को समाप्त कर देती है. 29 मार्च 2020 के आदेश में गृह मंत्रालय (Home Ministry) ने कंपनियों से लॉकडाउन (Lockdown) की अवधि का वेतन न काटने का निर्देश दिया था. सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने कहा कि सभी मामलों को एक सप्ताह के लिए स्थगित कर दिया जाता है, क्योंकि भारत सरकार (Government) इस सप्ताह में प्रतिक्रिया दाखिल करेगी.

  सीबीएसई ने असेसमेंट स्कीम के तहत जारी किए रिजल्ट, फेल शब्द भी हटाया

गौरतलब है कि मजदूरों के वेतन को लेकर एमएसएमई के एक संगठन ने सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) में याचिका दायर की थी. इस पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने आदेश दिया था कि कर्मचारियों को वेतन नहीं दे सकने वाली कंपनियों के खिलाफ एक हफ्ते तक कोई कार्रवाई न हो. कोर्ट ने कहा था कि बहुत सी छोटी कंपनियां कामकाज जारी रखने के लिए संघर्ष कर रही हैं. सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) में मंगलवार (Tuesday) को फिर सुनवाई हुई. हालांकि, इस सुनवाई से पहले सरकार (Government) ने कंपनियों को अपने कर्मचारियों को लॉकडाउन (Lockdown) की अवधि का वेतन देने से राहत दे दी.

Please share this news