सुप्रीम कोर्ट ने पीजी मेडिकल और एसएस दाखिले की समयावधि बढ़ाने पर स्वीकृति दी

PG Medical Counselling 2020: MCC Relief to state counselling...
नई दिल्ली (New Delhi) . सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया की याचिका को स्वीकार करते हुए पीजी मेडिकल और एसएस एडमिशन की समयावधि बढ़ाने के साथ-साथ विभिन्न मेडिकल कॉलेजों को विभिन्न कोर्स शुरू करने के लिए अनुमति पत्र जारी करने की मांग स्वीकार ली है. मेडिकल डायलॉग टीम ने कोर्ट को बताया था कि कोरोना के कारण चिकित्सा शिक्षा क्षेत्र के कामकाज में भारी व्यवधान के कारण, मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया का कामकाज प्रभावित हो रहा है. कौंसिल ने सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) में एक नहीं बल्कि तीन आवेदन दायर किए हैं, जिसमें चिकित्सा से संबंधित विभिन्न समयसीमाओं का समय बढ़ाने की मांग की गई है.
कौंसिल का कहना है कि कोविद -19 महामारी (Epidemic) के कारण देशव्यापी लॉकडाउन (Lockdown) के मद्देनजर, मेडिकल प्रवेश प्रक्रिया के साथ-साथ काउंसिल विनियमों में निर्धारित मेडिकल कॉलेज आवेदन प्रक्रिया सहित विभिन्न वैधानिक प्रक्रियाओं के लिए समय अनुसूची का पालन नहीं किया जा सकता है.

  बिहार: सियासी समीकरण साधने जेडीयू भी वर्चुअल रैली के लिए मैदान में उतरी

ज्ञात रहे कि देश में कोरोना संकट के कारण डॉक्टरों (Doctors) की भरी कमी महसूस की जा रही है ऐसे में मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया में व्याप्त भ्र्ष्टाचार और लालफीताशाही देश की जर्जर स्वस्थ्य व्यवस्था के लिए घातक है.

भोपाल (Bhopal) के गांधी मेडिकल कॉलेज (जीएमसी) में ही एमबीबीएस की सीटें इस सत्र (2020-21) में 180 से बढ़ाकर 250 की जानी थी. मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (एमसीआई) की टीम ने इसी साल जनवरी में सीटें बढ़ाने के लिए कॉलेज का निरीक्षण भी कर लिया था. निरीक्षण के आधार पर मार्च में कुछ कमियां बताई थीं. लॉकडाउन (Lockdown) के चलते यह कमियां दूर नहीं हो सकीं, इस कारण इस सत्र में अब सीटें नहीं बढ़ पाएंगी.

Please share this news