सुरक्षा परिषद ने की कराची हमले की निंदा, कहा पाक को साफ संदेश आतंक का हर चेहरा खतरनाक

नई दिल्ली (New Delhi) . सुरक्षा परिषद ने कराची स्थित पाकिस्तान स्टॉक एक्सचेंज में हुए आतंकी हमले की निंदा की है. 29 जून को हुए इस आतंकी हमले में 4 आतंकी समेत 11 लोग मारे गए थे. सुरक्षा परिषद ने कहा आतंकवाद अपने किसी भी रूप में अतंरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा के लिए खतरा है, सुरक्षा परिषद के सदस्यों ने कहा कि आतंकवाद के हर रूप की सख्त आलोचना होनी चाहिए और य़ङ दुनिया के लिए गंभीर खतरा है.

  भारत को धर्मनिरपेक्षता जैसी पश्चिमी अवधारणाओं की आवश्यकता नहीं, गोविंदाचार्य बोले, राम मंदिर भूमिपूजन 500 वर्षों के संघर्ष का परिणाम है

सुरक्षा परिषद ने दोहराया कि आतंकवाद से जुड़ा हर कृत्य बहुत बड़ा खतरा है और इसे किसी भी कीमत पर माफ नहीं किया जाना चाहिए. सुरक्षा परिषद ने कहा कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है कि इस कृत्य का उद्देश्य क्या है, इसे किसने किया है और कब किया. सुरक्षा परषिद ने कहा दुनिया के सभी देश अपने पास मौजूद सभी साधनों के द्वारा संयुक्त राष्ट्र के चार्टर और दूसरे अंतरराष्ट्रीय कानूनों के मुताबिक आतंकवाद से लड़े.

  महबूबा मुफ्ती की रिहाई के लिये यह सही समय - राहुल गांधी

जम्मू-कश्मीर में दहशतगर्दों की हिंसा को कथित आजादी की लड़ाई से जोड़ने वाले पाकिस्तान के लिए सुरक्षा परिषद का यह वक्तव्य कड़ा संदेश है. सुरक्षा परिषद ने स्पष्ट कर दिया है कि आतंक सिर्फ आतंक है और इसके मकसद के आधार पर इसे वैधता का जामा नहीं पहनाया जा सकता है.

  भारतीय इस्पात बाजार में दिखने लगा है सुधार : आदित्य मित्तल

सुरक्षा परिषद ने इस आतंकी हमले में मारे गए लोगों के परिवारवालों के साथ गहरी संवेदना व्यक्त की और इस हमले में घायल हुए लोगों के जल्द ठीक होने की कामना की. सुरक्षा परिषद ने कहा कि इस आतंकी हमले को अंजाम देने वाले, इसकी साजिश रचने वाले और इसके स्पॉन्सर का पता लगाया जाना चाहिए और उन्हें अंतरराष्ट्रीय कानूनों के मुताबिक सजा देनी चाहिए.

Please share this news