सप्लाई चैन बाधित होने से ग्रामीण क्षेत्रों मै बड़ा आर्थिक संकट

नई दिल्ली (New Delhi) . कोरोनावायरस की महामारी (Epidemic) का असर अब गांव-गांव तक पहुंच रहा है. ग्रामीण क्षेत्रों में इसका असर दिखना शुरू हो गया है. ग्रामीण क्षेत्रों में कृषि के माध्यम से मुख्य आय होती है. लॉक डाउन के दौरान खेतों में उगाई गई सब्जियां फल फूल रवी फसल की कटाई गेहूं, दलहन बाजार, तक नहीं पहुंच पा रहे हैं. सप्लाई चैन पूरी तरह टूट गई है. जिसके कारण ग्रामीण अर्थव्यवस्था पर गहरा झटका लगा है.

  अमेरिका के शोधकर्ताओं का दावा : भारत में कोरोना संक्रमण का जोखिम बहुत ज्यादा

लॉक डाउन के कारण खेतों में खड़ी फसल की कटाई नहीं हो पा रही है. हार्वेस्टर और मजदूर नहीं मिल पा रहे हैं. खेतों में खड़ी फसल सड़ने लगी है. लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान फूल एवं सब्जी विक्रेताओं को भारी नुकसान हुआ है. मजदूर और लॉजिस्टिक की कमी से पूरा कारोबार थम गया है. यदि यही स्थिति रही तो ग्रामीण अंचलों की आर्थिक व्यवस्था बुरी तरह प्रभावित होगी किसानों पर कर्ज और बढ़ेगा. अर्थव्यवस्था में भी इसका विपरीत असर देखने को मिलेगा.

Please share this news