21 जुलाई से 3 अगस्त तक चलेगी अमरनाथ यात्रा, कोरोना के कारण अवधि में की गई कटौती


श्रीनगर (Srinagar) . कोरोना महामारी (Epidemic) के बीच अमरनाथ यात्रा की तिथियों का ऐलान कर दिया गया. यह इस साल यात्रा 21 जुलाई से शुरू होकर 3 अगस्त तक चलेगी. इस बीच शुक्रवार (Friday) को यात्रा के लिए ‘प्रथम पूजा’ भी आयोजित की गई. अमरनाथजी श्राइन बोर्ड (एसएएसबी) के अधिकारियों ने यह जानकारी दी. हालांकि, कोरोना महामारी (Epidemic) के कारण इस बार यात्रा की अवधि में कटौती की गई है. साधुओं को छोड़कर अन्य तीर्थयात्रियों (Passengers) में 55 वर्ष से कम उम्र के लोगों को ही अनुमति दी जाएगी. यात्रा करने वाले सभी लोगों के पास कोविड निगेटिव प्रमाण पत्र भी होने चाहिए.

  अब एनडीए छोड़ने में ही है पासवान की भलाई, महागठबंधन में आना चाहें तो करेंगे विचार

एसएएसबी के एक अधिकारी ने कहा, ‘तीर्थयात्रियों (Passengers) को जम्मू-कश्मीर में यात्रा शुरू करने की अनुमति देने से पहले उनको वायरस के लिए क्रॉस-चेक किया जाएगा.’ साधुओं को छोड़कर सभी तीर्थयात्रियों (Passengers) को यात्रा के लिए ऑनलाइन पंजीकरण करना होगा. यह भी तय किया गया है कि 15 दिनों के दौरान सुबह और शाम गुफा मंदिर में की जाने वाली ‘आरती’ का देश भर के भक्तों के लिए सीधा प्रसारण किया जाएगा.

  बजाज ऑटो के वालुज प्लांट के 250 कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव, दो लोगों की हो चुकी है मौत

अधिकारियों ने कहा कि स्थानीय मजदूरों की अनुपलब्धता और बेस कैंप से गुफा मंदिर तक ट्रैक बनाए रखने में कठिनाइयों के कारण, यात्रा 2020 के लिए गांदरबल जिले में बालटाल बेस कैंप से गुफा तक पहुंचने के लिए हेलिकॉप्टर का उपयोग किया जाएगा. यात्रा केवल उत्तरी कश्मीर बालटाल मार्ग से होकर निकलेगी. अधिकारियों ने कहा, ‘इस वर्ष किसी भी तीर्थयात्री को पहलगाम मार्ग के माध्यम से यात्रा करने की अनुमति नहीं दी जाएगी.’ यात्रा का समापन 3 अगस्त को श्रावण पूर्णिमा पर होगा, जिस दिन रक्षा बंधन का त्योहार होता है.

Please share this news