5 फीट की दूरी से ली तस्वीरों में चेहरे की विकृति नहीं दिखती: विज्ञान

विज्ञान ने सेल्फी लेने वाले सभी लोगों की प्रमुख चिंता का हल निकाल लिया है. ‎जिसमें विज्ञान ने कहा कि अगर आपका हाथ पांच फीट यानी 1.5 मीटर का हो, तो परफेक्ट सेल्फी ली जा सकती है. इस दौरान जामा फेशियल प्लास्टिक सर्जरी जर्नल में प्रकाशित एक शोध पत्र में बताया गया ‎कि 5 फीट की दूरी से क्लिक की गई तस्वीरों में चेहरे की विकृति नहीं दिखती है.

ऐसा नहीं होने पर आपकी नाक 30 प्रतिशत तक बड़ी दिख सकती है. वहीं, प्लास्टिक सर्जन और अध्ययन के को-ऑथर बोरीस पास्कहोवर ने बताया कि कई साल से मैंने मरीजों और परिवार के सदस्यों को सेल्फी दिखाने के दौरान यह कहते हुए सुना है कि मेरी नाक को देखो. ये सेल्फी लेने में काफी बड़ी दिखती है. उन्होंने बताया कि मैं हमेशा अपने मरीजों को बताता था कि आप जैसे वास्तव में दिखते हैं, यह वैसी नहीं है. मुझे पता था कि सेल्फी नाक के आकार को विकृत करती है. मैं इसे साबित करना चाहता था. इस‎‎लिये रुटगर्स न्यूजर्सी मेडिकल स्कूल और कैलिफोर्निया की स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के अपने साथियों के साथ पास्कहोवर और उनके सहयोगियों ने कैमरे के एंगल और दूरी से सेल्फी के खराब होने के कारण की व्याख्या करने के लिए गणितीय मॉडल का उपयोग किया है.

  कोरोना ने दिया इकॉनामी को तगड़ा झटका, चौथी तिमाही की विकास दर 3.1 फीसदी, पूरे साल का ग्रोथ रेट 4.2 प्रतिशत

इसके बाद शोधकर्ताओं ने फिर कैमरे को 12 इंच दूर, 5 फीट दूर और अनंत दूरी पर रखकर चेहरे की विशेषताओं के सापेक्ष विरूपण को देखा. ‎जिसके बाद लेखकों ने लिखा कि अनुमानतः 5 फीट यानी करीब 1.5 मीटर की दूरी से ली गई सेल्फी में नाक के आकार में कोई अंतर नहीं आता है. वहीं, अमेरिकन एकेडमी ऑफ फेशियल प्लास्टिक एंड रिकोनस्ट्रक्टिव सर्जरी इंक की ओर से साल 2017 में इस बारे में एक सर्वे किया गया था. इसमें प्लास्टिक सर्जन्स ने बताया था कि उनके पास आने वाले करीब 50 प्रतिशत से अधिक मरीज सेल्फी में खुद को बेहतर दिखाने के लिए उपचार कराने के लिए आते हैं.

Please share this news