दवा की थोक मार्केट भागीरथ प्लेस 4 जून तक के लिए बंद


नई दिल्ली (New Delhi) . राजधानी दिल्ली में भयावह रूप लेते जा रहे कोरोना (Corona virus) के कारण भारत की सबसे बड़ी दवा की थोक मार्केट भागीरथ प्लेस को 4 जून तक के लिए बंद कर दिया गया है.

कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी को देखते हुए व्यापारियों को मजबूरन दवा मार्केट बंद करने का फैसला लेना पड़ा है. मार्केट को संक्रमणमुक्त करने के लिए अगले कुछ दिन तक यहां पर सैनिटाइजेशन का काम किया जाएगा. वहीं, उप-राज्यपाल कार्यालय के बाद कोरोना का यह संक्रमण अब दिल्ली सचिवालय तक पहुंच गया है. सचिवालय के एक कर्मचारी में कोविंड19 वायरस की पुष्टि होने के बाद सामान्य प्रशासन विभाग को सैनिटाइजेशन के लिए सील कर दिया है.

  स्मार्ट सिटी भागलपुर के नगर निगम की खुली पोल

हालांकि, अब से कुछ देर पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री (Chief Minister) अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि उनकी सरकार (Government) कोरोना (Corona virus) से चार कदम आगे और हालात से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है. लॉकडाउन (Lockdown) आगे बढ़ाया जाए या नहीं इस पर दिल्ली के मुख्यमंत्री (Chief Minister) अरविंद केजरीवाल शनिवार (Saturday) को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि आज कोई ये नहीं कह सकता कि एक महीना या दो महीने और लॉकडाउन (Lockdown) कर लो तो कोरोना ठीक हो जाएगा. कोरोना रहेगा, अगर कोरोना रहेगा तो कोरोना का इलाज करने का इंतजाम करना पड़ेगा. हमारी पूरी सरकार (Government) इस समय कोरोना के मरीजों का इलाज करने पर ध्यान दे रही है.

  पश्चिम बंगाल में भाजपा नेता देबेंद्र नाथ रे की मौत की सीबीआई से जांच कराने की मांग

केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में कोविंड-19 के मामलों में वृद्धि देखी जा रही है, हम इसे स्वीकार करते हैं, लेकिन चिंता की कोई बात नहीं है. मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि ‘आप’ की सरकार (Government) कोरोना (Corona virus) से चार कदम आगे है. हम इस महामारी (Epidemic) से निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं. हम स्थायी लॉकडाउन (Lockdown) नहीं कर सकते.

कोरोना (Corona virus) पर दिल्ली सरकार (Government) की तैयारियों की चर्चा करते हुए केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में कोरोना के कुल 17386 केस हैं. उसमें से 7846 लोग ठीक हो गए हैं और 9142 लोग अभी भी बीमार हैं. इनमें से 398 लोगों की मौत हो चुकी हैं. उन्होंने बताया कि दिल्ली में बीते 15 दिन में 8,500 मरीज़ बढ़े हैं, लेकिन अस्पतालों में सिर्फ 500 मरीज ही भर्ती हुए हैं. ज्यादातर लोगों को हल्के लक्षण हैं और वो घर पर होम आइसोलेशन में रहकर ही ठीक हो रहे हैं. किसी को भी घबराने की कोई जरूरत नहीं है. कुल मरीजों में से केवल 2100 अस्पतालों में हैं, बाकी का उनके घरों में ही इलाज चल रहा है. कोरोना के इलाज के 6500 बिस्तर अब तक तैयार हैं और 9500 बिस्तर एक और हफ्ते में तैयार हो जाएंगे.

Please share this news