Sunday , 29 November 2020

हथेली के निशान भी होते हैं शुभ अशुभ


हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार हमारी हथेली पर ऐसे कई निशान होते हैं जो छोटी-छोटी रेखाओं के मिलने या टकराने से बनते हैं. इनमें कुछ निशान हमें शुभ फल प्रदान करते हैं, किंतु कुछ बेहद अशुभ होते हैं. कुछ खास स्थितियों में चक्र का निशान जहां हथेली के कुछ शुभ निशानों में माने जाते हैं, वहीं कुछ ऐसे निशान भी हैं जो हर परिस्थिति में बेहद अशुभ स्थितियां लाते हैं. जानिए हाथ में बनने वाले अशुभ निशान क्रॉस के बारे में.

सूर्य ग्रह हमें समाज में यश, सम्मान और प्रतिष्ठा दिलाता है और इसी पर्वत पर अशुभ चिह्न का होना मुसीबतें खड़ी कर देता है. सूर्य पर्वत पर स्थित क्रॉस संकट को दर्शाता है. यह व्यक्ति को प्रसिद्धि, कला या धन की खोज में निराशाजनक संकेत देता है. इस पर्वत पर क्रॉस व्यक्ति की बेईमान प्रकृति को दर्शाता है. व्यक्ति अच्छे मस्तिष्क होने के बावजूद दोहरी प्रकृति का होता है. यह निशान व्यक्ति की बुद्धि को नष्ट करने का काम भी करता है. सब कुछ जानते हुए भी वह बुरे कर्म करने लगता है.

चंद्र पर्वत पर क्रॉस पद, तो व्यक्ति कल्पना से प्रभावित रहेगा. व्यक्ति सदैव सपनों की दुनिया मे रह कर खुद को धोखा देगा. जब क्रॉस शुक्र पर्वत पर स्थित हो तो कुछ संकट या प्रेम संबंध में कष्ट का संकेत देता है. शुक्र प्रेम संबंधों और विलासता का कारक माना गया है, इसलिए क्रॉस का अशुभ चिह्न जीवन के इन्हीं दो बड़े क्षेत्रों पर आक्रमण करता है.

हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार हथेली पर बना क्रॉस का निशान मुसीबत, निराशा, खतरा और कभी-कभी जीवन में संकट का संकेत देता है. क्रॉस के लक्षण विभिन्न पर्वतों और रेखाओं की स्थिति पर निर्भर करते हैं.

यह व्यक्ति में शत्रु और चोटों के कारण संकट को दर्शाता है. यह संघर्ष, झगड़े और हिंसा द्वारा मृत्यु का भी संकेत देता है. ऐसे व्यक्ति का अगर किसी के साथ झगड़ा हो, तो वह अमूमन उग्र रूप ले लेता है.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *