Wednesday , 28 October 2020

हिमाचल-तिब्बत सीमा पर चीन की सड़क से घबराने की जरूरत नहीं

मंत्री बोले-भारत भी बॉर्डर को मजबूत करने के लिए उठा रहा है कई कदम

शिमला (Shimla) . हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के किन्नौर जिले में बॉर्डर पर तिब्बत की ओर से नो मेन्स लैंड जोन में चीन ने अपने अधीन क्षेत्र में 20 किलोमीटर सड़क का निर्माण किया है. किन्नौर चीनी कब्जे वाले तिब्बत से सटा है. मामले पर हिमाचल सरकार (Government) में परिवहन मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने कहा कि यह उनकी तैयारी है, लेकिन इससे घबराने की जरूरत नहीं है. मंत्री ने कह कि भारत भी अपने बॉर्डर को मजबूत करने के लिए कई कदम उठा रहा है. सितंबर महीने में ही पीएम मोदी पूर्व प्रधानमंत्री स्व अटल बिहार (Bihar) ी वाजपेयी के ड्रीम प्रोजेक्ट अटल टनल का उद्घाटन करेंगे, जिसके जरिए गलवान घाटी से लेकर कारगिल की रक्षा आसान होगी. ठाकुर ने कहा कि केंद्र सरकार (Government) की प्राथमिकता में भानुपल्ली-बिलासपुर-लेह रेललाइन भी है. देश भी अपने ढांचे को मजबूत कर रहा है. यह भारत अब नरेंद्र मोदी का भारत है जो दुनिया में मजबूत नेता माने जाते हैं.

मीडिया (Media) खबरों के मुताबिक चीन ने सीमा से सटे किन्नौर जिला के मोरंग घाटी क्षेत्र के कुनु चांग से आगे खेम कुल्ला पास की ओर सड़क बनाने का काम युद्ध स्तर पर शुरू किया है. दो किलोमीटर के नो मेन्स लैंड क्षेत्र में भी चीन द्वारा सड़क निर्माण करने की आशंका है. इसका खुलास तब हुआ जब हाल ही में चारंग गांव का 9 सदस्यीय दल 16 घोड़े और 5 पोर्टर और अर्धसैनिक बल के कुछ जवान के साथ गांव से करीब 22 किलोमीटर ऊपर बार्डर की ओर गए थे. उन्होंने देखा कि दो महीने में चीन ने तेजी से करीब 20 किलोमीटर सड़क का निर्माण भारत-तिब्बत सीमा की ओर किया है. दूसरी ओर, सांगला घाटी के छितकुल के पीछे तिब्बत के यमरंग ला की ओर भी सड़क निर्माण किया जा रहा है. 5 पोक लेन व कुछ बड़े-बड़े डंपर सड़क निर्माण में लगे हैं.

बताया गया है कि किन्नौर के कुन्नू चारंग गांव के समीप रंगरिक टुम्मा तक सीमा पार से कई बार अंधेरा होते ही ड्रोन आने की शिकायत की बात भी सामने आई है. बौद्ध भिक्षुओं ने रंगरिक टुम्मा में 8 जून को करीब 20 ड्रोन देखे थे. पहले भारतीय सीमा में रेकी करने के लिए ड्रोन छोड़ा जाता है और फिर भारी विस्फोट की आवाज आती है. मामले में एसपी किन्नौर एसआर राणा ने कहा कि जिले के लोगो को डरने की जरूरत नहीं है. चाईना तांगो गांव से सीमा की ओर सडक का निर्माण कर रहा है. सीमांत गांव चारंग पंचायत प्रधान पूर्ण सिंह ने केंद्र सरकार (Government) से मांग की है कि आईटीबीपी पोस्ट को चारंग मंदिर से हटाकर फॉरवर्ड पोस्ट यंपू और बीएससफ ढोबार पर भेजा जाए, ताकि चीन की गतिवीधियों पर नजर रखा जाए.

Please share this news