ब्रिटेन में कोरोना से 1000 से ज्यादा मौतें, अब बॉडी बैग्स और ताबूतों की पड़ी कमी


लंदन . ब्रिटेन में कोरोना संक्रमण के अब तक 17000 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं, जबकि 1000 लोगों की इससे मौत हो चुकी है. कोरोना संक्रमण से जिन लोगों की मौत हो रही है, उनके अंतिम संस्कार के लिए काफी सावधानी बरतनी पड़ रही है. ऐसे में ब्रिटेन के अंतिम संस्कार में काफी संकट पैदा हो गया है. यहां ताबूतों की भी कमी हो गई है.

मीडिया (Media) रिपोर्ट के अनुसार लंदन की फनरल सर्विस पोएटिक एंडिग्स के मालिक लूइस विंटर आजकल अपनी कंपनी बंद करने की सोच रहे हैं. लुइस का कहना है कि आजकल ज्यादातर कोरोना (Corona virus) से होने वाली मौतों के शरीर फनरल के लिए लाए जा रहे हैं. इन शरीरों से कोरोना (Corona virus) फैलने का खतरा है, इसलिए महंगे बॉडी बैग्स के बिना इन्हें दफनाया नहीं जा सकता.

  चीन के प्रयासों को रोकने भारत-अमेरिका को बनानी चाहिए योजना : थिंक टैंक

उन्होंने कहा इस शवों को साफ करने के लिए मेरे स्टाफ को भी प्रोटेक्टिव गियर्स की जरुरत है, लेकिन हमें वो उपलब्ध ही नहीं हैं. लूइस ने कहा हमारी जान की चिंता किसी को नहीं है. हमारे पास प्रोटेक्टिव गियर्स नहीं हैं. सुरक्षा के लिए हमें सरकार (Government) की तरफ से कोई मदद नहीं मिल रही है.

  वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया ने भरी तेजस से उड़ान

एक अन्य फनरल सर्विस की मालिक लूसी कॉलबर्ट ने बताया कि प्रोटेक्टिव गियर्स के बिना काम नहीं कर सकते और अब इनकी कीमत तीन गुना (guna) से भी ज्यादा हो गई है. उन्होंने बताया कि चीन में बढ़ते मामलों के बाद ही उन्होंने कुछ सामान पहले से खरीद लिया था, लेकिन जितनी मौतें हुई हैं उसका अंदाज़ा नहीं था. अब लॉकडाउन (Lockdown) में सप्लाई नहीं है और उनके पास फनरल के लिए ज़रूरी सामन भी नहीं बचा है.

नेशनल सोसायटी ऑफ़ अलायड एंड इंडिपेंडेंट फनरल डायरेक्टर के सीईओ टेरी टेनेन्स ने बताया कि सरकार (Government) ने गाइडलाइंस तो जारी कर दीं हैं, लेकिन हमें इनका पालन करने के लिए सप्लाई कहां से मिलेगी, इसके बारे में अभी तक कुछ बताया नहीं गया है. उन्होंने कहा कि बिना प्रोटेक्टिव गियर्स के काम करना हमारी और हमारे परिवार की जान खतरे में डाल सकता है. हॉस्पिटल्स, पुलिस (Police) और अन्य सर्विसेज के पास सभी सामन मौजूद हैं लेकिन कोरोना संक्रमण का सीधा सामना करने वाले हम लोगों की चिंता किसी को नहीं है.

Please share this news