लंदन ब्रिटिश सरकार को मिली खुफिया जानकारी, कोरोना के पीछे हो सकता है चीनी लैब


लंदन रोना वायरस चीन के एनिमल मार्केट से फैला, इस थ्योरी पर अभी भी कई लोग भरोसा नहीं कर रहे हैं. वायरस के प्रसार की वजह का पता लगाने के लिए सरकारें जासूसी भी करा रही हैं. ब्रिटेन सरकार (Government) को खुफिया सूचना मिली है कि वायरस का संक्रमण पहले चीनी लैब से जानवरों में हुआ और उसके बाद वह इंसानों में फैला जो घातक रूप ले चुका है.

ब्रिटेन के शीर्ष सरकारी सूत्रों का कहना है कि भले ही अब तक वैज्ञानिक सुझाव यही रहा हो कि वायरस वुहान के पशु बाजार से इंसानों में फैला, लेकिन चीनी लैब से हुई लीक के फैक्ट को दरकिनार नहीं किया जा सकता है. एक मीडिया (Media) रिपोर्ट के मुताबिक, बोरिस जॉनसन द्वारा गठित आपात कमेटी कोबरा के एक सदस्य ने कहा कि पिछली रात मिली खुफिया सूचना मिली जिसके मुताबिक इस बात को लेकर कोई दो राय नहीं है कि वायरस जानवरों से ही फैला है लेकिन इस बात से भी इनकार नहीं किया गया है कि वायरस वुहान के लैब से लीक होकर ही सबसे पहले इंसानों में फैला.

  कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए मॉल में किया गया अनोखा प्रयोग, लिफ्ट में बटन हटा लगाया फुट पैडल

कोबरा को सिक्यॉरिटी सर्विस ने विस्तृत जानकारी दी है. इसने कहा यह महज संयोग नहीं है कि वुहान में लैब मौजूद हैं. इस तथ्य को छोड़ा नहीं जा सकता. वुहान में इंस्टिट्यूट ऑफ वायरोलॉजी मौजूद है. चीन में यह सबसे ऐडवांस लैब है. यह इंस्टिट्यूट जानवरों के बाजार से महज 10 मील दूर स्थित है.

  आईडीएफसी फर्स्ट बैंक को जनवरी-मार्च तिमाही में 76.36 करोड़ का मुनाफा

उल्लेखनीय है कि चीन के सरकारी अखबार ने 2018 में दावा किया था कि चीन घातक इबोला वायरस जैसे माइक्रोऑर्गेनिज्म पर प्रयोग करने में समक्ष है. ऐसी अपुष्ट खबरें भी आई थीं कि इंस्टिट्यूट के कर्मचारियों के ब्लड में इसका इन्फेक्शन हुआ और फिर इसने स्थानीय आबादी को संक्रमित किया है. वुहान सेटंर फॉर डिजिज कंट्रोल भी बाजार से तीन मील दूर है.

  केविड19 के प्रसार पर अमेरिकी मुकदमे को चीन ने किया खारिज, जवाबी कार्रवाई की दी चेतावनी

माना जाता है कि यहां भी चमगादड़ पर प्रयोग किए गए हैं, ताकि कोरोना (Corona virus) के ट्रांसमिशन का पता चल सके. 2004 में चीनी लैब से हुई लीक के कारण घातक सार्स वायरस फैला था जिससे वहां एक व्यक्ति की मौत हो गई थी और 9 अन्य संक्रमित हो गए थे. चीनी सरकार (Government) ने तब कहा था कि यह लापरवाही के कारण ऐसा हुआ था और 5 वरिष्ठ अधिकारियों को दंडित किया गया है.

Please share this news