लॉकडाउन में भी सक्रिय हैं शराब माफिया


छतरपुर . कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए जिले भर में लागू किए गए लॉकडाउन (Lockdown) के बाद भी अवैध शराब का विक्रय थमने का नाम नहीं ले रहा है. जिला प्रशासन ने शराब की दुकानों को बंद कर रखा है लेकिन दुकानों के बंद हो जाने से शराब माफियाओं ने शराब के शौकीनों तक होम डिलेवरी शुरू कर दी है. जिले के तमाम शहरों एवं ग्रामीण इलाकों में अवैध शराब के विक्रय की खबरें सामने आ रही हैं. इसी बीच नौगांव में समाजसेवा की आड़ में शराब विक्रय करने वाला एक गिरोह पकड़ा गया है. इस गिरोह से 55 पेटी देशी शराब बरामद की गई है.

  56 पैसे की मजबूती के साथ रुपया 75.04 पर बंद

इसी तरह हरपालपुर के सरसेड़ क्षेत्र में चल रही अवैध शराब की फैक्ट्री पर प्रशासन की टीम ने छापामार कार्यवाही की है. कोरोना के साथ-साथ प्रशासन के सामने अवैध शराब की बिक्री रोकने की एक बड़ी चुनौती के रूप में सामने आया है. जिला प्रशासन ने शराब के सभी वैधानिक ठेकों को बंद कराते हुए बीड़ी, सिगरेट के विक्रय पर भी रोक लगाई है. अब नशे के शौकीन अपनी लत को पूरा करने के लिए किसी भी कीमत पर नशे की सामग्री खरीदने के लिए मजबूर हैं.

  कन्‍नौज में मेथी समझकर बनाई गई गांजे की सब्जी

खबर है कि छतरपुर जिला मुख्यालय पर भी एक नीली गाड़ी दिन-भर शहर में घूमकर लोगों को शराब की होम डिलेवरी करा रही है. कुछ शराब तस्कर लोगों को लंच पैकेट बांटने की आड़ में भी शराब विक्रय का काम करने में जुटे हैं. खबर यह भी है कि लोगों को लॉकडाउन (Lockdown) के बीच शराब उपलब्ध करा रहे माफिया उनसे तीन गुना (guna) तक राशि वसूल करने में जुटे हैं.

Please share this news