7 साल से कम सजा वाले बंदियों को पैरोल पर छोड़ेगी सरकार


नई दिल्ली (New Delhi) . कोरोना (Corona virus) के चलते सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने सभी राज्य सरकारों से कहा है कि वह एक हाई पावर कमेटी का गठन करें. इस कमेटी में राज्य विधिक सेवा के चेयरमैन की अध्यक्षता में गठित हो जिन जिलों में क्षमता से अधिक कैदी रखे गए हैं. उन जेलों में 7 साल से कम की सजा पाए हुए बंदियों को पैरोल पर छोड़ने पर राज्य सरकार (Government) तुरंत कार्रवाई करें.

  [क्विक टेक] मेरा गैलेक्सी फोन मेरे लिए लाइफ कोच जैसा हैः सिद्धार्थ शर्मा

सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने जेलों में बंद कैदियों को संक्रमण से बचाने के लिए विशेष उपाय करने के निर्देश दिए हैं. सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने पुलिस (Police) और न्यायालय अधिकारियों को कहां है कि अनावश्यक गिरफ्तारियों से बचा जाए जेल में बंद कैदियों की सुरक्षा का ध्यान रखा जाए. एक जेल से दूसरे जेल में कैदियों को शिफ्ट करने पर भी रोक लगाई गई है.

  RJD के कुनबे को गोपालगंज जाने से रोका, काफिले में राबड़ी देवी और तेजप्रताप यादव भी मौजूद

मध्यप्रदेश में कमेटी का गठन

सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) के आदेश पर कार्रवाई करते हुए मध्यप्रदेश में कमेटी का गठन किया गया है. विधिक सेवा समिति के कार्यकारी अध्यक्ष न्यायमूर्ति संजय यादव प्रमुख सचिव गृह तथा डीजीपी जेल जेल में बंद कैदियों के पैरोल पर छोड़ने का निर्णय करेंगे. सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) के दिशा निर्देशों को ध्यान में रखते हुए हाई पावर कमेटी के सदस्य वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बैठक करेंगे डीजीपी जेल ने कहा कि इस संबंध में शीघ्र कार्यवाही कर सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) को भी सूचित किया जाएगा.

Please share this news