लॉकडाउन की वजह से मुसीबत में फंसे कुम्हार


नई दिल्ली (New Delhi) . दिल्ली में 45 डिग्री से ऊपर बढ़ रहे पारे ने लोगों का जीना मुहाल कर दिया है. महानगर में एक तबका चिलचिलाती गर्मी में सिर्फ घड़े के पानी पर ही निर्भर करता है. लॉकडाउन (Lockdown) के चलते मिट्टी के बने घड़े पर्याप्त संख्या में नहीं बन पा रहे हैं, जिससे लोगों को बाजारों से खाली हाथ लौटना पड़ रहा है. जहां कुछ घड़े हैं भी वहां लॉकडाउन (Lockdown) के चलते कारोबार प्रभावित है. ऐसे में भीषण गर्मी में लोग गर्म पानी पीने को मजबूर हैं. दिल्ली के कई इलाकों में ये समस्या इसलिए भी है क्योंकि मिट्टी के घड़े बनाने के लिए मिट्टी दिल्ली के हरियाणा (Haryana) (Haryana) से आती है. लगातार चल रहे लॉकडाउन (Lockdown) के चलते मिट्टी की पर्याप्त सप्लाई नहीं हो पा रही है.

  भारत के लिए फ्रांस करेगा स्पेशल पैकेज की घोषणा

दिल्ली में मिट्टी के घड़े बनाने के लिए मशहूर प्रजापति कालोनी के कुम्हार मिट्टी के बर्तन बनाने की कला में माहिर हैं. यहां करीब 11 कलाकार राष्ट्रपति से भी सम्मानित हो चुके हैं. यहां पर मिट्टी के सामान और बर्तन खरीदने के लिए विदेशी भी आते हैं. राष्ट्रपति अवार्ड से सम्मानित प्रजापति कॉलोनी के प्रधान हरिकिशन ने बताया कि हरियाणा (Haryana) (Haryana) से मिट्टी न आ पाने की वजह है कॉलोनी के कलाकार मायूस हैं. सबके सामने रोजी-रोटी का संकट है. गर्मी की वजह से बेहद कम ही ग्राहक आते हैं.

Please share this news