Wednesday , 28 October 2020

कुलभूषण जाधव मामले में पाक की नई चाल, हाईकोर्ट से वकील देने की उठाई मांग


नई दिल्ली (New Delhi) . भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव केस को लेकर पाकिस्तान ने नई चाल चल दी है. वकील देने के मामले में अब उसने इस्लामाबाद हाईकोर्ट का रुख किया है. हाईकोर्ट में लगाई गई याचिका में पाकिस्तान सरकार (Government) ने आईसीजे का फैसला लागू करने के लिए वकील नियुक्त करने की अनुमति मांगी है. हालांकि, याचिका में ये भी कहा गया है कि भारत की मदद के बिना जाधव वकील नहीं कर सकता है. साथ ही पाकिस्तान सरकार (Government) ने कोर्ट को यह भी बताया है कि जाधव ने रिव्यू पिटीशन से इनकार कर दिया है.

भारतीय नेवी के पूर्व अफसर कुलभूषण जाधव पाकिस्तान की जेल में कैद हैं. पाकिस्तान की आर्मी कोर्ट ने अप्रैल 2017 में जाधव को जासूसी और आतंकवाद के आरोप में दोषी ठहराते हुए मौत की सजा सुनाई थी. पाकिस्तान के इस फैसले के खिलाफ भारत इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस गया था, जहां फिलहाल ये केस लंबे समय से चल रहा है.

आईसीजे ने पाकिस्तान को इस फैसले पर पुनर्विचार करने और भारत को जाधव का कॉन्सुलर एक्सेस देने के लिए कहा था. इसके बाद से पाकिस्तान लगातार कोर्ट को गुमराह करने वाले पैंतरे अपना रहा है. हाल ही में जाधव से पाकिस्तान में भारतीय उच्चायोग के दो अधिकारियों ने मुलाकात थी. लेकिन ये मुलाकात पाकिस्तानी अधिकारियों की मौजूदगी में हुई. इस पर भारत ने कहा था कि ये कॉन्सुलर एक्सेस सार्थक नहीं था क्योंकि खुले तौर पर जाधव से बातचीत करने की इजाजत नहीं दी गई. इससे पहले 2017 में जाधव की मां और पत्नी को मिलने की इजाजत दी गई थी.

अब पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव को पाकिस्तानी अधिकारियों की उपस्थिति के बिना कॉन्सुलर एक्सेस देने की पेशकश की है. इस बीच पाक सरकार (Government) हाईकोर्ट चली गई है. हाईकोर्ट में लगाई गई याचिका में पाकिस्तान सरकार (Government) ने कहा है कि कुलभूषण जाधव ने अपनी सजा के खिलाफ पुनर्विचार याचिका की मांग से इनकार कर दिया है. साथ ही याचिका में ये भी कहा गया है कि जाधव भारत की मदद के बिना वकील नहीं कर सकता है.

ज्ञात हो कि पाकिस्तान जाधव मामले में लगातार कॉन्सुलर एक्सेस देने से बचता रहा है. अब जबकि पाकिस्तान ने कॉन्सुलर एक्सेस देने पर हामी भरी है तो उसने इस्लामाबाद हाईकोर्ट का रुख कर नया पैंतरा चल दिया है. मालूम हो कि आईसीजे से भारत को कॉन्सुलर एक्सेस की इजाजत मिली थी, लेकिन अब तक पाकिस्तान की तरफ से बिना अवरोध के एक्सेस नहीं दिया गया है.

Please share this news