कोरोना का भूत जिताएगा ट्रम्प को अगला चुनाव, सोशल मीडिया में फर्जी विज्ञापन


वाशिंगटन . कोरोनावायरस के संक्रमण ने अमेरिका के राजनीतिक मायने ही बदल दिए हैं. राष्ट्रपति के चुनाव में इसका असर देखने को मिल रहा है. धन जुटाने के तरीके और प्रचार करने के तरीके में काफी परिवर्तन आ गया है. जनसभाओं के माध्यम से कोरोनावायरस के संक्रमण का खतरा है. जिसके कारण प्रचार के लिए सोशल मीडिया (Media) का सबसे ज्यादा उपयोग किया जा रहा है.

अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव प्रचार 20 माह पहले शुरू हो जाता है. राष्ट्रपति चुनाव के लिए मात्र 217 दिन बचे हैं. डेमोक्रेटिक पार्टी का कन्वेंशन जुलाई में होना है. पार्टी के नेताओं को इस आयोजन पर संदेह है कि कोरोनावायरस कारण यह हो पाएगा या नहीं. इस चुनाव में कोरोनावायरस का जबरदस्त असर होगा. जिसको देखते हुए राष्ट्रीय, प्रांतीय और स्थानीय डेलिकेट पीड़ित परिवारों की मदद में जुटे हुए हैं. राष्ट्रपति ट्रंप ने कोरोनावायरस को लेकर जो इंतजाम किए जाने थे. वह नहीं किए गए. जिसके कारण अमेरिका में कोरोनावायरस के संक्रमित मरीजों की संख्या और मौत होने की संख्या काफी बड़ी है. जिससे ट्रंप अलोकप्रिय भी हो रहे हैं जिससे उनकी चिंताएं बढ़ गई हैं.

  खराब मौसम के कारण स्पेस-एक्स का लॉन्च टला

ट्रम्प ने अब कोरोना (Corona virus) को ही चुनाव जीतने के लिए मोहरा बनाया जा रहा है. उन्होंने कहा कि कोरोना (Corona virus) के कारण लाखों अमेरिकी नागरिकों की मौत हो सकती है. सरकारी स्तर पर कोरोना (Corona virus) का भय फैलाकर लोगो को ज्यादा से ज्यादा राहत पहुंचाने की छबि बनाकर वह चुनाव में फिर जीतना चाहते हैं. उललेखनीय है कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जिस तरह दूसरी बार भय को फैलाकर सत्ता में काबिज हुए हैं. अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रम्प कोरोना (Corona virus) का भूत खड़ा करके चुनाव जीतने की रणनीति बनाकर काम कर रहै हैं.

  शादी का झांसा देकर किया दुष्कर्म, अश्लील वीडियो क्लिपिंग भी बना ली

सोशल मीडिया (Media) में फर्जी विज्ञापन

फेसबुक, गूगल और ट्विटर जैसे सोशल मीडिया (Media) प्लेटफार्म पर अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव पर दुरुपयोग रोक पाना, राजनीतिक दलों के लिए सबसे बड़ी चुनौती साबित हो रही है. फेसबुक पर ईरान से एक फर्जी विज्ञापन संदेश प्रसारित हुआ था. जिसे फेसबुक की सिक्योरिटी टीम ने शिकायत मिलने के बाद हटाया. इस तरीके के लगभग आधा दर्जन से ज्यादा मामलों में फर्जी विज्ञापन और फर्जी संदेश सोशल मीडिया (Media) में वायरल हो रहे हैं. जिन्हें बाद में हटाना गया है.

Please share this news