बदलते मौसम में बच्चों का ध्यान रखें


आजकल तेजी से मौसम में बदलाव हो रहे हैं. मौसम में हो रहे इस उतार-चढ़ाव का बच्चों के सेहत पर बुरा असर पड़ रहा है. बदलते मौसम के कारण खांसी, जुकाम के साथ-साथ वायरल संक्रमण की शिकायतें भी बढ़ जाती हैं. दिन में कभी गर्मी का अहसास तो शाम को हल्के सर्द मौसम से रूबरू होना पड़ रहा है, इस कारण बच्चों में सर्दी, जुकाम, नेजल एलर्जी, वायरल बुखार, गले की खराबी और एलर्जी के रोग भी पनपने लगे है.

  सब्जी फलों के ठेलों का सर्वे करें-अजिताभ शर्मा

डॉक्टरों (Doctors) की माने तो सर्दियां और गर्मियां शुरू होने के बीच के मौसम में बचाव करना बेहद जरूरी है. बच्चों की प्रतिरोधक क्षमता कम होने की वजह से बदलते मौसम का असर सबसे ज्यादा इन्हीं पर देखने का मिलता है. बच्चों में सर्दी-जुकाम के साथ निमोनिया के लक्षण भी सामने आते हैं. डॉक्टरों (Doctors) के मुताबिक बदलते मौसम का असर अभी एक माह और रह सकता है. ऐसे में इस दौरान सर्दी से बचाव रखने के साथ-साथ गर्मी का असर भी सेहत पर प्रभाव डाल सकता है. सर्द-गर्म मौसम की वजह से बच्चों में वायरल फीवर का खतरा सबसे अधिक रहता है.

  सामने आईं बीजेपी सांसद, कहा-'हाथी निकला है, कुत्ते भौंकते हैं'

मौसम के असर को शरीर पर रोकने के लिए बचाव बेहद जरूरी है. ऐसे में आने वाले एक महीने तक वायरल संक्रमण से बचने के लिए बच्चों के खान पान का विशेष ध्यान रखें. खासतौर पर बच्चों को ठंडी और बासी चीजें खाने को ना दें. साथ हीं सर्दी खासी के लक्षण दिखाई देते हीं बच्चों का इलाज शुरू कर दें. बदलते मौसम की अनदेखी बच्चों के लिए ज्यादा नुकसानदेह हो सकती है.

Please share this news