Thursday , 24 September 2020

राम जन्मभूमि के पक्षकार राजेंद्र सिंह को मिला आमंत्रण


बलरामपुर . राम जन्मभूमि के पक्षकार राजेंद्र सिंह को अयोध्या में राम मंदिर (Ram Temple) निर्माण के लिए होने वाले भूमि पूजन कार्यक्रम में आमंत्रित किया गया है. दरअसल, राजेंद्र सिंह के पिता गोपाल सिंह विशारद ने 1950 में न्यायालय में हिंदू पक्ष की ओर से पहली याचिका दायर की थी. गोपाल सिंह विशारद उस समय फैजाबाद के प्रतिष्ठित वकील थे. 1949 में विवादित परिसर में रामलला के प्रकटीकरण के बाद जब ताला लगा दिया गया था और अंदर प्रवेश प्रतिबंधित कर दिया गया था तो गोपाल सिंह विशारद ने न्यायालय में पहली याचिका दायर कर अपने लिए पूजा का अधिकार मांगा था. 9 नवंबर 2019 को सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने अपने निर्णय में गोपाल सिंह विशारद को पूजा का अधिकार दिया.

हालांकि, गोपाल सिंह विशारद कि 1986 में ही मृत्यु हो गई थी. उनकी मृत्यु के पश्चात उनके पुत्र राजेन्द्र सिंह इस मुकदमे की पैरवी कर रहे थे 86 वर्षीय राजेंद्र सिंह बैंक (Bank) के अवकाश प्राप्त प्रबंधक हैं और बलरामपुर में निवास करते हैं. वहीं, आमंत्रण मिलने के बाद राजेंद्र सिंह ने कहा कि यह पल मेरे लिए अविस्मरणीय है. राजेंद्र सिंह ने कहा कि इस मुकदमे की पैरवी करते हुए कभी-कभी एहसास होता था कि पता नहीं उनके जीवनकाल में ही फैसला आ पाएगा या नहीं. उन्होंने कहा कि फैसला आया और आज मंदिर निर्माण की शुभ घड़ी भी आ गई है जो मेरे लिए अगाध प्रसन्नता का विषय है. राजेंद्र सिंह ने कहा कि 500 वर्षों से मंदिर निर्माण को लेकर संघर्ष चलता रहा है. उन्होंने कहा कि देश में हिंदू विचारधारा और राष्ट्रीय भावना वाली सरकार (Government) न होती तो अगले 500 वर्षों तक प्रभु श्री राम का मंदिर बन पाना मुश्किल होता.

Please share this news