ग्रामीण बच्चों में मानिसक रोग का जोखिम होता है कम, पशुओं का होना मानसिक सेहत के लिए अच्छा


वॉशिंगटन .एक अध्ययन में यह पता चला है कि ग्रामीण क्षेत्रों में पलने-बढ़ने वाले बच्चे जो पशुओं और बैक्टिरिया से घिरे रहते हैं, उनकी तनाव के प्रति रोग प्रतिरोधक प्रणाली लचीली होती है और उन्हें मानसिक रोग होने का जोखिम भी कम होता है, उन बच्चों की तुलना में जो शहर में रहते हैं और जिनका पशुओं से कोई संपर्क नहीं रहता. शोध के मुताबिक, आवश्यकता से अधिक जीवाणुरहित पर्यावरण से सेहत संबंधी समस्याएं हो सकती हैं.

  गुजरात में कोरोना के 372 केस, 608 ठीक हुए, 20 मरीजों की मौत

जर्मनी की यूनिवर्सिटी ऑफ उल्म और अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ कोलोराडो बोल्डर के शोधकर्ताओं के मुताबिक बढ़ते बच्चों के इर्द-गिर्द पशुओं का होना मानसिक सेहत के लिए अच्छा होता है. शोध में जर्मनी के 40 लोगों को शामिल किया गया था, जिनकी आयु 20 से 40 वर्ष के बीच थी. इनमें से आधे लोग खेतों में पशुओं के बीच पले बढ़े, जबकि आधे बिना पशुओं के संपर्क के शहरों में बड़े हुए.सीयू बोल्डर में प्रोफेसर क्रिस्टोफर लॉरी ने बताया कि यह पहले ही साबित हो चुका है कि बच्चे के विकास के दौर में पशुओं और ग्रामीण पर्यावरण से उसका संपर्क आने वाले वक्त में उसमें अस्थमा और अन्य एलर्जी के जोखिम को कम करता है. लेकिन इस शोध में यह पहली बार साबित हुआ है कि यह मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी महत्वपूर्ण है.

Please share this news