भारतीय बैंकों को विदेशी रुपया-डेरिवेटिव बाजार में मिली सौदे करने की छूट


मुंबई (Mumbai) . रिजर्व बैंक (Bank) ने रुपये में जारी उथल-पुथल पर लगाम लगाने के उद्देश्य से भारतीय बैंकों को विदेशी रुपया डेरिवेटिव बाजारों में सौदे करने की शुक्रवार (Friday) को मंजूरी दे दी है. इस मंजूरी के बाद अब भारतीय बैंक (Bank) विदेश के नॉन-डिलिवरेबल फॉरवर्ड (एनडीएफ) रुपया बाजारों में कारोबार कर सकेंगे, जिसमें डिलिवरी नहीं लेनी होती. अभी तक विदेशी एनडीएफ बाजार में भारतीय बैंकों को कारोबार करने की अनुमति नहीं थी. हालांकि विशेषज्ञों की राय थी कि यदि भारतीय बैंकों को विदेशी एनडीएफ बाजारों की पहुंच मिले तो रुपये की गति को नियंत्रित किया जा सकता है.

  मुंबई दिल्ली, सूरत समेत 11 शहरों से आने वाले प्रवासी अब ब्लॉक के क्वारंटाइन कैंप में रहेंगे

एनडीएफ बाजार के तहत विदेशी मुद्रा विनिमय के लिये वायदा दर का निर्धारण होता है. इसमें संबंधित पक्ष आपसी सहमति से यह तय करते हैं कि किसी अमुक तारीख पर हाजिर बाजार में मुद्रा के विनिमय की जो दर रही है, उसी दर के आधार पर भविष्य के सौदे किये जायेंगे. आमतौर पर एनडीएफ सौदों का भुगतान नकदी में होता है. रिजर्व बैंक (Bank) ने यह छूट ऐसे समय दी है जब कोरोना (Corona virus) के संक्रमण से उत्पन्न अनिश्चितता के कारण रुपया भारी उथल-पुथल से गुजर रहा है.

  अगले 10 दिनों में चलेंगी 2,600 श्रमिक स्पेशल ट्रेन, 36 लाख प्रवासी यात्रा करेंगे

हाल ही में रुपया गिरकर प्रति डॉलर (Dollar) 75 के स्तर से भी नीचे चला गया था. रिजर्व बैंक (Bank) के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा, ‘‘यह सही समय है जब घरेलू और विदेशी बाजारों के बीच श्रेणी-भेद को समाप्त किया जाये तथा दर निर्धारण की प्रक्रिया के प्रभाव को बेहतर बनाया जाये.

Please share this news