भारतीय हॉकी टीम ओलंपिक पदक की दावेदार : चार्ल्सवर्थ


नई दिल्ली (New Delhi) . पूर्व ऑट्रेलियाई हॉकी कप्तान रिक चार्ल्सवर्थ टोक्यो ओलंपिक के फाइनल में भारत और आस्ट्रेलिया की टीमों के बीच मुकाबला देखना चाहते हैं. दिग्गज खिलाड़ी चार्ल्सवर्थ का मानना है कि पिछले कुछ समय के अंदर भारतीय हॉकी बेहतर हुई है और वह ओलंपिक पदक के प्रबल दावेदारों में शामिल हो गयी है. भारतीय टीम अभी विश्व रैंकिंग में चौथे स्थान पर है. इस खिलाड़ी ने कहा कि भारत और ऑस्ट्रेलिया दोनों ही टीमों में जीत दर्ज करने की क्षमताएं हैं. साथ ही कहा कि ओलंपिक बहुत अप्रत्याशित होता है इसलिए हमें उसका इंतजार करना होगा.

  बलबीर सिंह सीनियर महान खिलाडी थे, पाकिस्तानी हॉकी धुरंधरों ने कहा

खिलाड़ी और कोच के तौर पर विश्व कप खिताब विजेता चार्ल्सवर्थ ने कहा खेल को आगे बढ़ाने के लिए फ्रेंचाइजी आधारित हॉकी लीग (एचआईएल) को जल्दी से फिर से शुरू करने की जरूरत है. एचआईएल का आयोजन पांच सत्र तक सफल मेजबानी के बाद साल 2018 में फ्रेंचाइजियों की निराशा और वित्तीय चिंताओं के कारण बंद कर दिया गया था. चार्ल्सवर्थ का मानना ​​है कि विश्व हॉकी की प्रतिस्पर्धा को देखते हुए भारत को स्पर्धा में बने रहने के लिए थोड़ा भी कमजोर रूख नहीं रखना होगा. उन्होंने कहा कि भारतीय टीम को लगातार प्रयास करते रहने की जरूरत है क्योंकि अंतरराष्ट्रीय हॉकी बहुत प्रतिस्पर्धी है. चार्ल्सवर्थ ने भारतीय टीम के कोच ग्राहम रीड की तरीफ करते हुए कहा कि पिछले साल अप्रैल में रीड के कोच बनने के बाद से भी टीम बेहतर हुई है.

Please share this news